शिक्षक की मौत सांस लेने में हो रही थी दिक्कत सीएचसी में हंगामा

 | 
शिक्षक की मौत सांस लेने में हो रही थी दिक्कत सीएचसी में हंगामा

गौरव शुक्ला की रिपोर्ट

शमसाबाद- इलाज के लिए मंगलवार को सीएचसी पहुंचे शिक्षक को सांस लेने में दिक्कत होती देखकर मौजूद कर्मचारी ड्यूटी छोड़कर भाग गए। परिजन खुद शिक्षक को स्ट्रेचर पर लिटाकर डॉक्टर के पास लेकर पहुंचे। तब तक शिक्षक की मौत हो गई। परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाकर जमकर हंगामा किया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को शांतकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
मोहल्ला दलमीर खां निवासी अनिल कुमार राजपूत (35) जनपद सीतापुर के प्राथमिक स्कूल नगला जयराम में शिक्षक थे। सोमवार को उनकी तबीयत खराब हो गई। इस पर उन्होंने सीतापुर में रह रहे छोटे भाई आयुष को जानकारी दी। आयुष उन्हें लेकर दलमीर खां आ गए। मंगलवार को अनिल को सांस लेने में दिक्कत हुई। इस पर परिजन उन्हें लेकर सीएचसी पहुंचे और मौजूद कर्मचारियों को सांस लेने में दिक्कत बताई।परिजनों ने ऑक्सीजन लगाकर इलाज शुरू करने के लिए कहा। शिक्षक को सांस लेने में दिक्कत होती देख सीएचसी कर्मचारी कोरोना संदिग्ध समझकर ड्यूटी छोड़कर भाग गए। परिवार के लोग स्ट्रेचर पर शिक्षक को स्वयं लेकर सीएचसी के अंदर पहुंचे। डॉ. दीपेंद्र अवस्थी ने शिक्षक को मृत घोषित कर दिया। इस पर परिवार के लोगों ने सीएचसी के कर्मचारियों व डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा कर दिया।
जानकारी पर एसओ आरके रावत व भाजपा नेता पूर्व चेयरमैन विजय गुप्ता मौके पर पहुंचे। एसओ व विजय गुप्ता ने परिजनों को समझाकर शांत किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शिक्षक की मौत हृदय गति से रुकने से होना बताई गई। शिक्षक की मौत से पत्नी विनीता, पुत्र अक्षत व पुत्री, भाई सुनील, विवेक, आयुष, बहन सविता, कविता तथा मां रामसखी रो-रोकर बेहाल हो गए।