प्रतापगढ़: कोरोना काल में साइकिल से दुल्हन ब्याहने निकला दूल्हा, आकर्षण का केंद्र बनी अनोखी बारात

 | 
प्रतापगढ़: कोरोना काल में साइकिल से दुल्हन ब्याहने निकला दूल्हा, आकर्षण का केंद्र बनी अनोखी बारात

सतीश कुमार दुबे की रिपोर्ट

दूल्हे राजा ने कहा आज कोरोना काल मे ऑक्सीजन की किल्लत है. इसलिए हमने साइकिल से बारात निकाल शादी रचाने जा रहे है। इससे शादी में हो रही फिजूलखर्ची और पर्यावरण के संरक्षण का बड़ा संदेश जाएगा.
प्रतापगढ़: कोरोना काल में साइकिल से दुल्हन ब्याहने निकला दूल्हा, आकर्षण का केंद्र बनी अनोखी बारात

प्रतापगढ़-  कोरोना की दूसरी लहर  गांव से लेकर शहर तक कहर बरपा रही है. प्रदेश में आक्सीजन को लेकर कोहराम मचा हुआ है. लगातार मौतें हो रही हैं.इसी बीच प्रतापगढ़ की एक बारात चर्चा का केंद्र बन गयी, क्योंकि इस बारात में दूल्हेराजा समेत दर्जन भर बाराती साइकिल से बारात लेकर दुल्हन ब्याहने पहुंचे. दूल्हे राजा ने कहा आज कोरोना काल मे ऑक्सीजन की किल्लत है. इसलिए हमने साइकिल से बारात निकाल शादी रचाने जा रहे है. इससे शादी में हो रही फिजूलखर्ची और पर्यावरण के संरक्षण का बड़ा संदेश जाएगा।
पर्यावरण सेना के नेतृत्व में निकली इस बारात की सभी सराहना करते हुए नजर आए. दरसअल शुक्रवार की शाम मान्धाता के बोझी गांव के विनय प्रजापति की बारात नगर कोतवाली के राजगढ़  बेनी प्रसाद प्रजापति के घर जानी थी. बारात के लिए दूल्हे की तरफ से कोई गाड़ी और विशेष आडम्बर व साज सज्ज़ा नहीं किया गया था. दूल्हा विनय प्रजापति शाम चार बजे साइकिल से बारात लेकर निकल पड़े तो इलाके में चर्चा का केंद्र बन गए. बारात जिस सड़क और गाली से निकलती

ग्रामीणों की भीड़ उस बारात को अपने निगाहों से देखती रही


जहां वर्तमान समय मे शादियां स्टेट्स सिंबल बनती जा रही है. शादी में गाड़ी, डीजे, कई प्रकार के भोजन, सजावट लोग अपनी शान समझने लगे है, लेकिन इसी बीच बोझी गांव के दूल्हेराजा ने प्रदूषण मुक्त विवाह का बिगुल फूंक कर पर्यावरण संरक्षण का बड़ा संदेश दिया. जिसकी प्रतापगढ़ में खूब सराहना के साथ चर्चा हो रही है.

सिर्फ दर्जन भर गए बाराती

दुल्हेराजा विनय ने कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए सिर्फ और सिर्फ दर्जन भर बाराती लेकर निकले। कोरोना काल में कोविड के नियमों के पालन हेतु भी बड़ा संदेश दिया।