शेखर अस्पताल की अनोखी पहल में लगा ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट

 | 
शेखर अस्पताल की अनोखी पहल में लगा ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट

आदित्य मिश्र की रिपोर्ट


शाहजहांपुर- जिले में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए पूरे देश में त्राही-त्राही मची हुई है। इस बार कोरोना संक्रमण से ग्रसित मरीजों में आक्सीजन की कमी और सांस लेने में दिक्कत वालों की संख्या में इजाफा हुआ है  और ऑक्सीजन की कमी की बजह से मरीजों की मौत भी हुयीं है और अन्य मरीजों पर मौत का संकट बना हुआ है। 
जनपद शाहजहांपुर के शेखर अस्पताल के एमडी डा0 सोमशेखर दीक्षित ने अनोखी पहल की। मरीजों की जान बचाने के लिए शेखर हॉस्पिटल एक ऐसा नर्सिंग होम बना जिसमें सर्वप्रथम ऑक्सीजन प्लांट लगाया गया है। डॉक्टर्स जहां सांस के गंभीर मरीजों को कोविड समझकर हाथ नहीं लगा रहे वहीं डा0 सोमशेखर दीक्षित मरीजों को बेहतर इलाज दे रहे, साथ ही जनपद में ऑक्सीजन जनरेटर लगाकर  जनता को ऑक्सीजन के प्रति बड़ी राहत दी। 
कोरिया की कम्पनी का प्लांट, 20 लाख की कीमत डा0 सोमशेखर दीक्षित ने बताया कि यह कोरिया की कम्पनी का प्लांट है। इसका गुड?ांव में ऑफिस है, एजेंसी के व्यक्ति से फोन से सम्पर्क किया। रूपए दिए और अगले दिन आकर मशीन लग गए। ऐसी तीन दिन के अन्दर 20 लाख रूपए का यह ऑक्सीजन प्लांट लगाया गया। उसी दौरान इसका सेड बनवा लिया। 9 बेड साइड ऑक्सीजन दे रहा है। यह सिलेण्डर नहीं भर सकता इसके लिए बेड साइड फिटिंग चाहिए। उन्होंने कहा कि आईसीयू है जिसमें 9 बेड दे रहा, वैसे 15 बेड पर ऑक्सीजन दे सकता है। मरीजों को हित को सोचते हुए ऐसा कदम उठाया।
तीन दिन में लगा प्लांट, हवा से बनाता ऑक्सीजन
एमडी डा0 सोमशेखर दीक्षित ने बताया कि ऑक्सीजन की किल्लत को देखते हुए उन्होंने मन में ठान लिया कि जनता की मदद के लिए वह ऑक्सीजन प्लांट लगाएंगे। रूपए की कमी होने के बावजूद भी तीन दिन के अन्दर  प्लांट को लगाया। ज्यादातर मरीज ऑक्सीजन के आ रहे जिनको सिलेण्डरों के माध्यम से ऑक्सीजन दी जा रही, ऑक्सीजन की कमी न हो इसलिए मरीज को स्वस्थ्य करने के लिए इस ऑक्सीजन प्लांट को लगाया गया। हवा को खींचने के बाद यह प्लांट अपनी जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन तैयार करता।
अस्पताल में मरीजों के लिए 80 से 100 बेड का इंतजाम
डा0 सोमशेखर दीक्षित ने कहा कि गंभीर मरीजों को लेने का जिम्मा ले रखा है, चाहे महामारी हो या न हो। महामारी आती, कोई अन्य बीमारी जैसे-डेंगू, मलेरिया उस समय बहुत ज्यादा क्राईसेस हो जाती।अस्पताल  40 बेड का है, लेकिन इमरजेंसी के लिए 80 से 100 बेड  का इंतजाम कर रखा। उसी अनुसार बिल्डिंग संसाधान व लगभग स्टॉफ भी मौजूद है। ऑक्सीजन की हमेशा सुविधा रखते है, जिससे कभी दिक्कत न सामने आए।
ऑक्सीजन की कमी पर प्लांट लगाने का निर्णय लिया 
 एमडी ने बताया कि 30 सिलेण्डर थे, महामारी को देखते हुए 60 सिलेण्डर बड़े वाले मंगा लिए हैं। उन्होंने बताया कि 40-45 ऑक्सीजन पर मरीज रहते हैं। इसके बावजूद 20 मरीज को लौटाना पड़ जाता है। दो दिन ऑक्सीजन नहीं मिली, खबरों से पता चला कि देश में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। तब ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्णय लिया। तीन दिन के अन्दर प्लांट को लगाया।
डॉक्टर का फर्ज होता मरीज की जान बचाना
डा0 सोमशेखर दीक्षित ने कहा कि डॉक्टर्स का फर्ज मरीजों की जान बचाना, इसी मरीजों की जान बचाने के लिए कोशिश की जा रही, ईश्वर ने चाहा तो सफलता हाथ जरूर लगेगी।
लोगोंं की मदद को तैयार रहते डॉ शेखर 
बता दें लोगों की मदद के लिए डॉ सोमशेखर दीक्षित अकसर आगे आए है। पिछली बार फैले कोरोना संक्रमण के दौरान भी डॉ  शेखर नेें पीएम व सीएम केयर फंड में 10 लाख रूपये दिये थे और अब ऑक्सीजन प्लांट लगाकर मरीजो ंको बड़ी राहत पहुंचाने की कोशिश की है।