मैनपुरी के बहाने चाचा और भतीजे के फिर करीब आने के आसार, 'एका' की कोशिशों में जुटा यादव परिवार

 | 
अखिलेश

प्रधान संपादक की रिपोर्ट

मैनपुरी सीट पर होने वाले उपचुनाव के बहाने अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव के एक बार फिर करीब आने के आसार बन रहे हैं। यादव परिवार इसकी कोशिशों में जुटा है। समाजवादी पार्टी इस सीट पर तेज प्रताप यादव को उतार सकती है। इसके लिए अंदरखाने शिवपाल सिंह यादव को भी मनाने की कोशिशें परिवार की ओर से की जा रही हैं। कोशिश है कि मुलायम सिंह यादव के निधन से खाली इस सीट पर उपचुनाव यादव परिवार पूरी तरह एक नज़र आए। हालांकि इस बात की आशंका भी है कि बात नहीं बनी तो चाचा-भतीजा के बीच की दूरियां और भी बढ़ सकती हैं। समाजवादी पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद रिक्त मैनपुरी लोकसभा सीट पर पूर्व सांसद डिंपल यादव को लड़ाए जाने के पक्ष में हैं, लेकिन शीर्ष नेतृत्व तेज प्रताप के पक्ष में दिख रहा है। माना जा रहा है कि सपा तेज प्रताप को मैनपुरी से लोकसभा का उपचुनाव लड़ा सकती है। इस बीच शिवपाल यादव ने मैनपुरी से खुद प्रसपा के टिकट पर चुनाव लड़ने से इंकार नहीं किया है।
सपा चाहती है कि परिवार की एका के लिए शिवपाल भी तेज प्रताप यादव के समर्थन में पीछे हट जाएं। लोकसभा आम चुनाव में संभव है कि शिवपाल को वहां से लड़ा दिया जाए। शिवपाल यादव व सपा के बीच करीब आने की संभावनाएं अभी भी बनी हुईं हैं।

शिवपाल और तेज प्रताप के हैं घनिष्‍ठ संबंध

बताया जा रहा है कि शिवपाल यादव के तेज प्रताप से घनिष्ठ संबंध हैं। ऐसे में तेज प्रताप यादव के पक्ष में शिवपाल को मनाने की भी मुहिम चल रही है। ब्रिटेन के लीड्स विश्वविद्यालय से एमएससी (मैनेजमेंट) की डिग्री हासिल करने वाले तेज प्रताप वर्ष 2014 में मैनपुरी से सांसद चुने गए थे।