"कलर्स चैनल पर प्रसारित धारावाहिक नमक इश्क में युग प्रताप राजपूत के रूप में बनाई अपनी पहचान"

 | 
जौनपुर

 पंकज मणि तिवारी की रिपोर्ट

जलालपुर जौनपुरक्षेत्र के त्रिलोचन महादेव निवासी भोजपुरी फिल्म अभिनेता चन्दन सेठ के निवास स्थान पर आए भोजपुरी फिल्म के जाने-माने अभिनेता आदित्य ओझा व फिल्म अभिनेत्री श्रुति राव ने प्रेसवार्ता में बताया कि वह जौनपुर जिले में बन रही भोजपुरी फिल्म दिशा के शुटींग के लिए मुम्बई से आए है।श्री ओझा ने बताया वह बचपन में क्रिकेटर बनना चाहते थे,लेकिन पीठ में गंभीर चोट के कारण वह क्रिकेटर के रूप में अपना करियर नही बना सके।अभिनेता बनने से पहले,उन्होने नेशनल स्कूल आॅफ ड्रामा थिएटर कलाकार प्रदीप झा के साथ अभिनय की कार्यशालाएं कीं।उन्होने बताया कि 2011 में भोजपुरी फिल्म सुगना से शुरूआत किया।इसके बाद एक के बाद एक फिल्मों के आॅफर आने शुरू हो गए।इनकी प्रमुख फिल्में सुगना,रिहाई,सुगना-2,शादी करके फस गया यार,बाॅर्डर,आशीर्वाद चाहता मैया के सहित दर्जनों भोजपुरी फिल्मों में नजर आ चुके हैं।आदित्य बीआईपीएल(भोजपुरी इंडस्ट्री प्रीमियर लीग) की सेलिब्रिटी क्रिकेट टीम के विभिन्न सत्रों में खेल चुके हैं।आदित्य ने बताया भगवा में उनकी गहरी धारणा है,और वह अक्सर मंदिरों में जाते हैं।आदित्य को भोजपुरी फिल्मों में उनके अभिनय के लिए उन्हे कई पुरस्कार मिल चुके हैं।आदित्य ने अपनी आने वाली फिल्म मायावी को लेकर तो मैं ज्यादा कुछ नही कह सकता हूं लेकिन इतना है कि ये फिल्म एक उच्च स्तर की है।जब ये फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज होगी तो बाॅक्स आॅफिस पर धमाल मचा देगी।फिल्म अभिनेत्री श्रुति राव एक अभिनेत्री और गायिका है।उन्होने बताया पराग पाटिल द्घारा निर्देशित भोजपुरी फिल्म लिट्टी चोखा में खेशारी लाल यादव के साथ काम करने के लिए जानी जाती हूं।श्रुति ने अपने करियर की शुरूआत गायन से की और दर्जनों से अधिक गाने गाए और विभिन्न युट्युब चैनल पर रिलीज हुए।श्रुति ने बताया की वो अब तक एक दर्जन से अधिक फिल्मों में काम किया है।इनकी प्रमूख फिल्में लाल,अफवाह,उड़ल ओढ़निया प्यार में,सैया सावरका,लव लेटर,इश्क हसाय इश्क रूलाय,जलवा सहित और कई भोजपुरी फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुकी हैं।इस अवसर पर स्वर्णकार समाज के प्रदेश अध्यक्ष सत्यनारायण सेठ,सतीष वर्मा,विनय वर्मा,गायक राजेश तिवारी रत्न,प्रमधनी विश्वकर्मा सहित अन्य लोग मौजूद रहे।चन्दन ने सभी कलाकारों को अंगवस्त्रम् व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।