श्रद्धा बालकर जघन्य हत्या मामले में ब्राह्मण चेतना परिषद ने किया प्रदर्शन

 | 
उत्तर प्रदेश

आदित्य मिश्र की रिपोर्ट


हरदोई - जिले मे ब्राह्मण चेतना परिषद ने कलेक्ट्रेट में श्रद्धा बालकर की हत्या मामले में प्रदर्शन किया है। जिसमें पूर्व जिला अध्यक्ष पारिषा तिवारी ने ज्ञापन सौंपकर आरोपी पर कड़ी कार्यवाही की मांग की है। ब्राह्मण चेतना परिषद के पदाधिकारियों ने कहा कि आफताब अमीन ने श्रद्धा बालकर की 35 टुकड़ो में हत्या कर दी। जिसे छिपाने के लिए फ्रीज का इस्तेमाल किया और टुकड़ो को एक -एक कर जंगल में फेंक दिया। जिससे पूरे देश में ऐसे अपराधियों के प्रति आक्रोश व्याप्त है।
ब्राह्मण चेतना परिषद के कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा है। जिसमें उन्होंने बताया कि श्रद्धा बालकर हत्याकांड ने पूरे देश को झकझोर दिया है। जोकि मीडिया और सोशल मीडिया में इस समय ज्वलंत मुद्दा है। ब्राह्मण चेतना परिषद् की पूर्व जिला अध्यक्ष पारिषा तिवारी ने बताया कि एक नारी होने के नाते इस भयानक घटना ने मेरे मन, आत्मा और चेतना को झकझोर दिया है। जिसमें एक बार फिर देश ने देखा कि कुछ लोग मनुष्य के रूप में जानवरो से ज्यादा नृशंष है। जिसने प्रधानमंत्री के सपने नारी सशक्तिकरण और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर गहरा आघात किया है। पिछले कुछ सालों से विभिन्न रिपोर्टों सर्वे के माध्यम से सामने आया है कि इस प्रकार के अंतर धार्मिक विवाह के बाद महिलाओं पर जानवरों से ज्यादा खतरनाक व्यवहार किया जाता है। सरकार को इस ओर ध्यान देकर इस प्रकार के मामले में कोई सकारात्मक कानून बनाने का प्रयास करना चाहिए। राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंप कर ब्राह्मण चेतना के पदाधिकारियों ने आरोपी को शीघ्र फांसी के फंदे पर पहुंचाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जिससे जघन्य अपराध को कारित करने वाले आरोपियों की रूह कांप जाए।
पारिषा तिवारी एवं अधिवक्ता समाज से प्रीति द्विवेदी एडवोकेट कार्यकारिणी सदस्य, नीतू चंद्रा एडवोकेट, विनीता पांडे ने आरोपी आफताब पर जल्द फांसी की सजा देने की मांग की है।
ज्ञापन देने के उपरांत पारिषा तिवारी सहित अन्य महिला पदाधिकारियों ने कहा कि  आफताब अमीन ने श्रद्धा बालकर की जघन्य हत्या कर दी है, और उसके 35 टुकड़े कर पूरे दिल्ली में फेंके है। मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। कोई भी इंसान और कोई भी व्यक्ति इस प्रकार की घटना कर सकता था। उन्होंने सरकार से मांग की है कि एक ऐसा कानून बनाया जाए। जिससे बेटियों पर हो रहे अत्याचार को रोका जा सके और बेटियां अच्छे सेफ एनवायरनमेंट में पल, बढ़ सके। अगर श्रद्धा बालकर मुंबई से चलकर दिल्ली आई थी तो किसी पर भरोसा करके यहां रह रही थी। जिसमें इतनी बड़ी घटना घट गई 35 टुकड़ो में काटकर लड़की फेंक दी गई। पारिषा ने कहा मैं भी एक मां हूं और दिल से कह रही हूं कि हमारी बेटियो के लिए एक ऐसा कानून बने। जिससे लड़कियों के साथ हो रहे अत्याचार को रोका जा सके और ये सब न हो। जिसमें ब्राह्मण चेतना के पदाधिकारियों ने राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंप कर आरोपी आफताब पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। इसके साथ ही केंद्र सरकार से एक कड़े कानून को बनाने की मांग की है।