मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद बुस्तामी” अवार्ड से सम्मानित

खय्याम अहमद जाफरी की रिपोर्ट मकनपुर (कानपुर)। हुज़ूर सय्यदना बदी उद्दीन ज़िन्दाशाह मदार रज़ी अल्लाह ताआला अन्हो के आस्ताने आलिया मदारीया पर बसन्त पंचमी के उपलक्ष्य मे एक जलसे कुल का आयोजन मेला कमेटी के द्वारा किया गया । दरगाह परिसर मे पूरी रात कार्यक्रम चला जिसमे सिध्दार्थ नगर से आये मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद
 | 
मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद बुस्तामी” अवार्ड से सम्मानित

खय्याम अहमद जाफरी की रिपोर्ट 

मकनपुर (कानपुर)। हुज़ूर सय्यदना बदी उद्दीन ज़िन्दाशाह मदार रज़ी अल्लाह ताआला अन्हो के आस्ताने आलिया मदारीया पर बसन्त पंचमी के उपलक्ष्य मे एक जलसे कुल का आयोजन मेला कमेटी के द्वारा किया गया । दरगाह परिसर मे पूरी रात कार्यक्रम चला जिसमे सिध्दार्थ नगर से आये मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद बुस्तामी” अवार्ड से सम्मानित किया गया।

पूरी रात तकरीर व नात मनाकिब सुनाई गयी। ये एक प्रचीन मेला है जो सदियो से लगता आ रहा है । इसमे हिन्दू मस्लिम सिंख इसाई बौध्द जैन क्रिश्चियन पारसी सभी धर्म  के लोग अपनी अपनी मन्नते मुरादे मांगते है झोली भरके जाते है ।मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद बुस्तामी” अवार्ड से सम्मानित

इसमे देश विदेश से लोग आते अमेरिका थाईलैंड से अभी कुछ लोग अाये थे। मेले का लुत्फ उठाया । तमाम श्रध्दालुओ ने ईशन नदी के तट पर आस्था सदभावना के साथ स्नान किया। मेला घूम कर सर्कस व झूले झूल कर लुत्फ उठाया वही एक तरफ तहसील परिसर मे पूरी रात अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन मेला कमेटी के दू्ारा किया गया। मौलाना कैसर रज़ा को “बायज़ीद बुस्तामी” अवार्ड से सम्मानित

दरगाह मदारूल आलमीन मे दूर दूर से आये मौलाना व शायरो ने पूरी रात पढ़ा व तकरीर की जिसमे मुख्य रूप से मौलाना सय्यद मुनव्वर अली ,हाफिज़ सय्यद अज़बर अली ,कैसर रज़ा सिध्दाधार्त नगर ,मिस्बाहुल मुराद ,शजर अली , आदि लोग मौजूद रहे।