आठ साल तक नौकरी की फिर उसी घर मे डाका डाला

अकील की रिपोर्ट सहारनपुर। जिस व्यवसाई के घर 08 साल तक नौकरी की बाद में उसी के घर डाका डलवा दिया। यह खुलासा सहारनपुर पुलिस ने किया है। पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से जनेश्वर ने डकैती की वारदात की योजना बनाई थी जिसने 08 वर्ष तक नौकर रहने के बाद
 | 
आठ साल तक नौकरी की फिर उसी घर मे डाका डाला

अकील की रिपोर्ट 

सहारनपुर। जिस व्यवसाई के घर 08 साल तक नौकरी की बाद में उसी के घर डाका डलवा दिया। यह खुलासा सहारनपुर पुलिस ने किया है। पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से जनेश्वर ने डकैती की वारदात की योजना बनाई थी जिसने 08 वर्ष तक नौकर रहने के बाद घर की पूरी जानकारी पा ली थी।

पिछले वर्ष 15 दिसंबर 2019 को सहारनपुर के पटाखा व्यापारी सुभाष चाैपड़ा पुत्र मनोहर लाल निवासी मानकमऊ के घर रात में कुछ बदमाश घुस आए थे। बदमाशों ने चौकीदार को बंधक बना लिया था और 2 सीसीटीवी कैमरे एक पर्स व मोबाइल फोन समेत अन्य सामान लूट लिया था। शोर हो जाने के कारण यह बदमाश डकैती की वारदात को पूरी तरह से अंजाम नहीं दे पाए थे और इतना ही सामान लूटकर भाग गए थे लेकिन इस घटना से व्यापारी का परिवार सहम गया था।सहारनपुर एसएसपी दिनेश कुमार पी के अनुसार तभी से पुलिस इस वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों की तलाश कर रही थी। अब पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है इनमें नीटू पुत्र नोरतू निवासी जंधेड़ी थाना सदर बाजार सहारनपुर, जॉनी पुत्र विजयपाल निवासी रत्ना खेड़ी थाना कुतुबशेर सहारनपुर, मोहर सिंह पुत्र नानकू निवासी अनंतमऊ थाना ननौता और जनेश्वर सैनी पुत्र जगदीश निवासी राजबहा पटरी मानकमऊ का रहने वाला है। डकैती की इस वारदात के पीछे महत्वपूर्ण कड़ी जनेश्वर सैनी सामने़ आया है, जो व्यापारी के घर करीब 08 वर्ष तक नौकर रह चुका है।

गिरफ्तार नीटू ने पुलिस पूछताछ में बताया की इस वारदात में सलमान पुत्र नाजर निवासी रत्ना खेड़ी, पोपिन पुत्र रकम सिंह निवासी कुतुब खेड़ी और अनिल पुत्र जसवीर निवासी पीर माजरा भी शामिल थे। यह तीनों अभी फरार हैं। नीटू के अनुसार उसकी मुलाकात जनेश्वर सैनी से जेल में हुई थी। नीटू हत्या के एक मुकदमे में सहारनपुर जेल में बंद था और इसी दौरान जनेश्वर सैनी ने उसे बताया कि सहारनपुर में पटाखा व्यापारी सुभाष चोपड़ा का बड़ा काम है।

उसके घर में 24 घंटे काफी रकम भी रहती है। पूरे घर की लोकेशन देते हुए जनेश्वर सैनी ने बताया था कि घर में कुल 4 सदस्य हैं इनमें दो पुरुष हैं और 2 महिलाएं हैं। एक बूढ़ा नौकर गेट पर रहता है जो आसान टारगेट है। इस तरह जिला जेल की दीवारों के अंदर सुभाष चोपड़ा के घर डकैती डाले जाने की स्क्रिप्ट लिखी गई और बाद में जेल से छूटने के बाद इन सभी ने मिलकर व्यापारी के घर में डकैती डाल ली।

गनीमत रही कि शोर हो गया और चौकीदार को बंधक बनाने के बावजूद यह लुटेरे कोई बड़ी वारदात नहीं कर पाए। उन्होंने उस समय व्यापारी के घर से 2 सीसीटीवी कैमरे एक पर्स एक मोबाइल फोन चोरी कर लिया था, जिसे अब पुलिस ने बरामद कर लिया है। पुलिस का कहना है कि फरार तीन अभियुक्तों की भी जल्द गिरफ्तारी कर ली जाएगी।