रेल कर्मचारी ने प्रेशर कुकर और मछरदानी टांगने वाले स्टील पाइप से विकसित किया भाप लेने वाला उपकरण ।

 | 
रेल कर्मचारी ने प्रेशर कुकर और मछरदानी टांगने वाले स्टील पाइप से विकसित किया भाप लेने वाला उपकरण ।

बोकारो से शेखर की रिपोर्ट

सैनिटाइजर और मास्क दुश्मन से बचाव के लिए दोस्त बन चुके हैं
कोरोना की दूसरी लहर जानलेवा है इस जानलेवा दुश्मन से बचाव के लिए मांस और सैनिटाइजर दोस्त बन चुके हैं बाजार में मिलने वाली सेनीटाइजर से हाथ को सुरक्षित कर रहे हैं अब एक ऐसे हमदर्द की जरूरत है जो फेफड़ों को भी सेनीटाइज कर सके डॉक्टर का मानना है कि भाप ऐसी विधि है जिससे फेफड़े को भी सेनीटाइज कर सकते हैं भाप से फेफड़े तक पहुंचने वाला वायरस निष्क्रिय हो जाता है रोज भाप लेकर फेफड़ों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढा सकते हैं
विज्ञानिक भी भाप की सलाह दे चुके हैं इसके मद्देनजर रेलवे ने अब अपने कर्मचारी को संक्रमण से बचने के लिए कार्य स्थलों पर भाप लेने यानी स्टीम इनहेलेशन का प्रावधान कर दिया है पहले चरण में गोमो और पतरातू डिपो में इसकी शुरुआत हुई है बोकारो स्टेशन में भी लगाने की तैयारी है भाप लेने के लिए उपकरण बाजार में मिलते तो है पर इन दिनों मांग बढ़ जाने से आसानी से मिलना मुश्किल है ऐसे में रेल कर्मचारी ने खुद जुगाड़ तकनीकी से भाप लेने वाला उपकरण तैयार करना शुरू कर दिया है खाना बनाने में इस्तेमाल होने वाली प्रेशर कुकर और मच्छरदानी लगाने के लिए उपयोग में लाए जाने वाले स्टील या अल्मुनियम के पाइप के सहारे भाप लेने वाला उपकरण उपचार हो रहा है कुकर की सीटी हटाकर उससे आपको जोड़ दिया जा रहा है पाइप को एक दूसरे से जोड़ कर देने से एक साथ कई रेलकर्मी भाप ले रहे हैं लोको शेड समेत दूसरे कार्य स्थलों पर भाप ले रहे चालक व रनिंग कर्मचारी गोमो और पतरातु धनबाद रेल मंडल के बड़े डिपो है जहां कर्मचारी की संख्या भी काफी है