दुकानें खुली तो लौटने लगी चहल कदमी, रौनकें आम होने लगीं

एहसान अली की रिपोर्ट जम्मू । लॉकडाउन के बीच मंगलवार को शहर में इलेक्ट्रानिक्स की दुकानें भी खुल गई। अब ये दुकानें सप्ताह में तीन दिन खुली रहेंगी। आवश्यक श्रेणी के बाद ये तीसरा सेक्टर है, जिसमें प्रशासन ने दुकानें खोलने की कुछ मोहलत दी है। इससे पहले प्रशासन स्टेशनरी व इलेक्ट्रिकल सामान बेचने वाली
 | 
दुकानें खुली तो लौटने लगी चहल कदमी, रौनकें आम होने लगीं

एहसान अली की रिपोर्ट

जम्मू । लॉकडाउन के बीच मंगलवार को शहर में इलेक्ट्रानिक्स की दुकानें भी खुल गई। अब ये दुकानें सप्ताह में तीन दिन खुली रहेंगी। आवश्यक श्रेणी के बाद ये तीसरा सेक्टर है, जिसमें प्रशासन ने दुकानें खोलने की कुछ मोहलत दी है। इससे पहले प्रशासन स्टेशनरी व इलेक्ट्रिकल सामान बेचने वाली दुकानों को सशर्त खोलने की अनुमति दे चुका है।

इसे देखते हुए कुछ अन्य सेक्टर के व्यापारियों ने भी प्रशासन से दुकानें खोलने की अनुमति के लिए आवेदन दिया है, लेकिन उन पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। मंगलवार को इलेक्ट्रानिक्स की दुकानों को खुलने से बाजार में कुछ रौनक लौटती दिखी। गर्मियां होने के कारण दुकानों पर पंखे, कूलर, एसी, फ्रिज की खरीदारी भी हुई। दुकानें खुलने से शहर के इंदिरा चौक, सिटी चौक, अप्सरा रोड में ग्राहकों की आवाजाही शुरू हुई। ये वे इलाके हैं जहां इलेक्ट्रानिक्स व रेडीमेड की दुकानें ही अधिक हैं।

वहीं दुकानदारों ने भी दुकानों में ग्राहकों के प्रवेश के पहले उनके हाथ सैनिटाइज करवाने और अंदर शारीरिक दूरी बनाए रखने के पूरे बंदोबस्त किए थे। अप्सरा रोड में इलेक्ट्रानिक्स का शोरूम चलाने वाले इंदु भूषण ने बताया कि वैकल्पिक दिनों में दुकानें खुलेंगी। दुकानों को खोला जाना जरूरी था क्योंकि गर्मियां आ चुकी हैं और लोगों को पंखे, कूलर, एसी की जरूरतें होने लगी हैं। चुनिदा दुकानों को अनुमति मिलने पर पैदा हुआ विवाद

प्रशासन की ओर से इलेक्ट्रानिक्स उपकरणों के चंद दुकानदारों को ही मूवमेंट पास जारी किए गए थे, जिस कारण ये चंद लोग ही अपनी दुकानें खोल पाए। जब ये चंद दुकानें खुली तो दूसरे दुकानदारों ने रोष जताना शुरू कर दिया। हालांकि प्रशासन ने इलेक्ट्रानिक्स एसोसिएशन की ओर से मिली सूची के आधार पर ही दुकानों को खुलने की अनुमति दी थी, लेकिन जिन दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं मिली, उनके मालिकों ने प्रशासन पर भेदभाव का आरोप लगाना शुरू कर दिया। इसे लेकर एसोसिएशन के बीच भी विभाजन देखा गया। कुछ दुकानदारों ने एसोसिएशन के पदाधिकारियों पर ही भेदभाव करने का आरोप लगाया। उनका कहना था कि प्रशासन को आदेश जारी कर सभी इलेक्ट्रानिक्स दुकानों को खोले जाने की अनुमति देनी चाहिए। सभी दुकानदारों को लॉकडाउन में नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्हें भी अपना घर चलाना है। इस विवाद को देखते हुए प्रशासन की ओर से शेष रह गए दुकानदारों को भी अपनी जानकारी मुहैया करवाने की सलाह दी गई। अब इन दुकानदारों ने भी अपनी जानकारी दी है और इस पूरी प्रक्रिया की निगरानी कर रहे लीगल मीटरोलॉजी विभाग के डिप्टी कंट्रोलर मनोज प्रभाकर के अनुसार उनके पास सूची पहुंच चुकी है और जो शेष दुकानदार रह गए हैं, उन्हें भी मूवमेंट पास जारी किए जा रहे हैं। पूर्व में तय व्यवस्था कायम रहेगी

जम्मू कश्मीर की सरकार ने रविवार को जम्मू जिले को ओरेंज जोन से रेड जोन में परिवर्तित कर दिया। जिले को रेड जोन में करते हुए प्रशासन ने साफ कर दिया कि जम्मू में लॉकडाउन-3 के दौरान किसी तरह की अतिरिक्त रियायत नहीं दी जाएगी और पूर्व में तय व्यवस्था ही कायम रहेगी। ओरेंज जोन में केंद्र सरकार ने कई तरह की रियायतें घोषित की थी, जिन्हें देने से इन्कार कर चुके जिला प्रशासन को सरकार के इस फैसले से काफी राहत मिली है। अब जिला प्रशासन ने बिना कोई अतिरिक्त रियायत दिए लॉकडाउन को सख्ती से लागू करने का फैसला किया है।