48 घंटे में कोरोना से रांची में सात  वकील की मौत                

 | 
झारखंड

      बोकारो से संगीता की रिपोर्ट

 कोरोना की दूसरी लहर जानलेवा साबित हो रही है। इस लहर ने कई लोगों की जान ले ली है।48 घंटे के अंदर रांची के सात वकीलों  की मौत कोरोना से हुई है। जबकि कई वकील संक्रमित हैं। वकीलों की बड़ी संख्या में हो रही मौत पर  झारखंड हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन ने दुख जताया है और सरकार से मृत वकीलों के परिजनों को दस दस लाख मवावजा देने की मांग की है। एडवोकेट एसोसिएशन की अध्यक्ष ऋतु कुमार और महासचिव नवीन कुमार ने वकीलों के लिए सरकार से आर्थिक पैकेज देने की भी मांग की है।जिन वकीलों की मौत हुई है उनमें राजीव आनंद, प्रवीण कुमार राणा, प्रवीण कुमार, विधा भूषण सिंह,अलबिनस मिंज,कपाल सिंह, सुनिता कुमारी सिंह आदि शामिल हैं।कोरोना की दूसरी लहर में अब तक रांची के 20 से अधिक वकीलों की मौत हो चुकी है। संक्रमण की तेज रफ्तार को देखते हुए वकीलों ने 25 मई तक पूर्ण रूप से न्यायालय की कार्यवाही स्थगित करने की मांग की है। ताकि कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण की कड़ी तोड़ी जा सके। रांची जिला बार एसोसिएशन 25मई तक अपने आप को सभी प्रकार के न्यायिक प्रक्रिया से अलग रखने का मुहिम चला रही है। बहुमत के आधार पर  आगे का फैसला लिया जाएगा। रांची  जिला के बार एसोसिएशन के प्रशासनिक संयुक्त सचिव पवन रंजन खत्री ने स्टेट बार काउंसिल के सदस्य नीलेश कुमार, कुंदन प्रकाशन,संजय कुमार विद्रोही एवं रिंकू भगत का ध्यान अधिवक्ता एवं उनके परिवारों की सुरक्षा आकृष्ट कराया है।साथ ही वर्तमान परिस्थिति और हालात को देखते हुए न्यायालय के कार्य पूर्ण रुप से वर्चुअल एवं फिजिकल सुनवाई बंद करवाने का अनुरोध किया है।