स्वास्थ्य विभाग के स्वास्थ्य संगठन के द्वारा एक दिवस के वेतन कटौती करने करने का आदेश का विरोध कर रहे हैं

 | 
स्वास्थ्य विभाग के स्वास्थ्य संगठन के द्वारा एक दिवस के वेतन कटौती करने करने का आदेश का विरोध कर रहे हैं

हेमंत कुमार साहू की रिपोर्ट

डोंगरगांव -छत्तीसगढ़ प्रदेश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के ब्लाक इकाई द्वारा एक दिन के अधिकारी कर्मचारी का एक दिवस का वेतन  कटौती का आदेश जारी किया गया जो कि मुख्यमंत्री  राहत कोष में जमा किया जायेगा 

इस आदेश का विरोध करते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रांतीय सचिव के पी साहू का कहना है ।कि लगातार पिछले एक वर्ष से कोरोना काल में बिना अवकाश लिए हम सभी स्वास्थ्य अधिकारी कर्मचारी लगातार अपने सेवाएं दे रहे हैं हमें किसी प्रकार से शासन के द्वारा जोखिम भत्ता भी नहीं दिया जा रहा है ऊपर से अप्रैल माह के वेतन में एक दिवस का वेतन कटौती करने का आदेश निकालकर हम कर्मचारियों का मनोबल गिरा जा रहा है जो कि न्यायसंगत नजर नहीं आ रहा है हमारे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कर्मचारी बिना कोई अवकाश लिए निरंतर काम पर डटे हुए जिसके लिए सरकार को एक माह का अतिरिक्त वेतन देना चाहिए ।
भोज कुमार साहू ब्लाक अध्यक्ष डोंगरगांव ने बताया कि प्रदेश सरकार के द्वारा इस तरह आदेश निकाल कर अधिकारी कर्मचारी का एक दिवस का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में स्वैच्छिक जमा  करने का आदेश निकाला गया है जिससे अधिकारी कर्मचारी का मनोबल गिरेगा साथ ही जिस भाव से कार्य कर रहे हैं उसमें भी गिरावट आयेगा अधिकारी कर्मचारियों को अतिरिक्त कार्य करने के लिए अधिक वेतन देकर सम्मानित करने के बजाय उनके वेतन काटने का आदेश एक प्रकार से सजा देने जैसा प्रतीत हो रहा है,आज ब्लाक मुख्यालय में एक दिन के स्वैच्छिक वेतन कटौती के विरोध में डां रागिनी चंद्रे खंड चिकित्सा अधिकारी डोंगरगांव को ज्ञापन सौंपा गया ज्ञापन सौंपने में प्रमुख रूप से  बी देवांगन उपाध्यक्ष, विशाल खत्री सचिव, टी प्रवीन,भूनेश्वरी साहू, विमल कुमार जैन सहित स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी गण उपस्थित थे।