कोविड गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां, कोरोना के बढे हुए भी देहरादून के बाजारों में बढ़ी भींड

 | 
कोविड गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां, कोरोना के बढे हुए भी देहरादून के बाजारों में बढ़ी भींड

देहरादून। प्रदेश में कोरोना संक्रमण का प्रसार तेजी से हो रहा है। रोजाना आ रहे सैकड़ों मामले इसकी पुष्टि कर रहे हैं, लेकिन अभी भी दून में कई लोग ऐेसे हैं जो इसकी गंभीरता को समझने को तैयार नहीं हैं। इसी का नतीजा है कि दून के बाजार में आए दिन भीड़ उमड़ रही है जो कोरोना गाइडलाइन को पूरी तरह से नजरअंदाज कर रही है। इस दौरान कई व्यक्तियों ने मास्क तक नहीं पहना था और न ही शारीरिक दूरी का ही पालन किया जा रहा था।

दरअसल, शासन की ओर से कोरोना से बचाव को लेकर शनिवार व रविवार को कर्फ्यू घोषित किया गया है। जिसके चलते शुक्रवार को खरीदारी को लेकर बाजार में आमजन की भीड़ उमड़ी। जिससे कोरोना के दृष्टिगत आढ़त बाजार, दर्शनी गेट, रामलीला बाजार, डिस्पेंसरी रोड, तहसील चौक आदि स्थानों पर स्थिति चिंताजनक बनी रही। इस दौरान कई स्थानों पर कोविड गाइडलाइन की पूरी तरह से धज्जियां भी उड़ीं। जिससे आने वाले दिनों में कोरोना के मामले बढ़ने की आशंका को बल मिल रहा है। हालांकि दिन में करीब एक बजे बारिश के कारण अधिकांश लोग घरों को लौट गए, जिससे बाजार खाली-खाली नजर आने लगे।

  • सिद्धार्थ अग्रवाल (कार्यकारी अध्यक्ष, दून उद्योग व्यापार मंडल) का कहना है कि व्यापारी वर्ग को बैठक में इस बात की सलाह दी गई है कि वह अपनी दुकानों में ग्लव्स, मास्क पहनें और खुद सैनिटाइजर का प्रयोग करने के साथ ग्राहकों को भी दें। इसके अलावा दुकानों के बाहर शारीरिक दूरी के लिए गोले बनाएं। बिना मास्क सामान खरीदने वाले ग्राहकों को अपनी ओर से मास्क दें।
  • पंकज मैसोन (अध्यक्ष दून वैली महानगर उद्योग व्यापार मंडल) का कहना है कि कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार से व्यापारी भी चिंतित हैं। व्यापारियों ने मास्क नहीं तो सामान नहीं के बैनर अपने प्रतिष्ठानों में लगा रखे हैं। हालांकि, दुकानों के खुला रहने का समय कम होने से अधिक भीड़ बाजार में देखी जा रही है। व्यापारी सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक ही दुकान खुली रहने के पक्ष में हैं।
  • सुनील कुमार बांगा (अध्यक्ष दून महानगर व्यापार प्रकोष्ठ) ने कहा कि आमजन को घर का जरूरी सामान भी खरीदना है और कोरोना संक्रमण से भी खुद को बचाना है। व्यापारी वर्ग भी कोरोना संक्रमण के बढऩे से प्रभावित है। लेकिन, घर का खर्चा व आमजन की जरूरत के लिए दुकानें खोलना भी जरूरी है। हालांकि, बाजार में दो गज की दूरी नियम का पालन सभी को खुद करना होगा।