मुख्यमंत्री ने दैनिक पास देने से किया इनकार

प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट फरीदाबाद हरियाणा। लॉकडाउन में कंपनियों के कर्मचारियों की घर वापसी से उद्यमियों के लिए दिक्कत बढ़ गई है। शनिवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा प्रदेश के अलग-अलग जिलों से उद्यमियों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने दिल्ली से फरीदाबाद या दिल्ली से गुरुग्राम आने
 | 
मुख्यमंत्री ने दैनिक पास देने से किया इनकार

प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट

फरीदाबाद हरियाणा। लॉकडाउन में कंपनियों के कर्मचारियों की घर वापसी से उद्यमियों के लिए दिक्कत बढ़ गई है। शनिवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा प्रदेश के अलग-अलग जिलों से उद्यमियों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने दिल्ली से फरीदाबाद या दिल्ली से गुरुग्राम आने वालों के लिए दैनिक पास जारी करने के लिए साफ मना कर दिया है।
मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि साप्ताहिक पास ही लेकर काम करने आएं और सप्ताह भर काम करके वापस दिल्ली जाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चीन से जाने वाली वाली कंपनियों को हरियाणा में लाने के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं और हरियाणा फिर से संपन्न हो जाएगा। कंपनियां लोन लेकर कर्मचारियों को तनख्वाह दें।

मुख्यमंत्री ने सभी कंपनियों से आग्रह किया कि वह अपने कर्मचारियों को वेतन दें, क्योंकि वह भी उनके परिवार का हिस्सा हैं। जिन उद्योगों की स्थिति सही नहीं है, उनके लिए सरकार ने उद्यमियों को 20 हजार प्रति कर्मचारी की दर से लोन लेकर तनख्वाह देने को कहा है। इसका ब्याज 6 महीने तक हरियाणा सरकार देगी।

बैठक में गुरुग्राम के जिला उपायुक्त अमित खत्री, डीआईसी जीएम दिग्विजय सिंह, मानेसर आईएमटी इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के अध्यक्ष पवन यादव व अन्य लोग मौजूद थे।

बिजली बिल में छूट

बिजली के बिल के फिक्स चार्ज का 25 प्रतिशत छूट पहले 2 महीनों के लिए माफ किया था, अब उन्होंने मई के भी माफ कर दिया। बचे हुए 75 प्रतिशत अब अगले छह महीनों में दे सकते हैं। बिजली बिल की अंतिम तिथि पहले 15 मई थी, क्योंकि लॉग डाउन 17 मई तक है, तो सरकार ने 31 मई कर दी है।

उद्यमियों की जो बिजली विभाग के पास सिक्योरिटी जमा है, उस पर जितना ब्याज बकाया है बिजली विभाग उसको आने वाले बिलों में एडजस्ट करेगा। सुझाव दिया कि जिन उद्योगों ने दीर्घकालिक कर्ज लिए हुए हैं, उनका समय बढ़ाया जाए।