कोरोना संबंधी अव्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने किया प्रदेश स्तरीय धरना-प्रदर्शन

 | 
कोरोना संबंधी अव्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने किया प्रदेश स्तरीय धरना-प्रदर्शन

लव कौशिक की रिपोर्ट

जांजगीर में भाजपा नेता प्रशांत सिंह ठाकुर ने भूपेश बघेल के प्रतीकात्मक पुतले को बल्ले के साथ क्रिकेट पिच पर खड़ा कर किया प्रदर्शन

जांजगीर -भाजपा नेता प्रशांत सिंह ठाकुर ने इस प्रदर्शन के माध्यम से  छत्तीसगढ़ में व्याप्त स्वास्थ्य संबंधी असुविधा के लिए वर्तमान कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया ।ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमित मरीज और मौत के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं।  इस विषय पर प्रतिदिन हर जिले से चौकानेवाले और आक्रोश बढ़ाने वाले समाचार सामने आ रहे हैं।  कहीं ऑक्सीजन की कमी, कहीं वेंटिलेटर की कमी और लगभग सभी स्थान पर हॉस्पिटल में बेड की कमी देखी जा रही है । हद तो तब हो गई जब कोरोना टेस्ट को लेकर भी सरकार की पूरी व्यवस्था खतम दिखाई पड़ रही है। 
 कई जगहों पर लाश को जलाने के लिए जगह कम पड़ रही है,  तो कहीं मानवीय संवेदना को छिन्न-भिन्न करने वाली तस्वीर भी दिखाई पड़ रही है।  प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से दुर्भाग्यपूर्ण खबर प्राप्त हो रही है।  निधन के पश्चात सम्मानजनक विदाई के बजाय मृत देह को कचरे की गाड़ियों में ले जाया जाना हृदय को तार तार करती है और शासन की समझ और संवेदना पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करती है। गत 1 वर्षों से संक्रमण का चक्र चल रहा है उसके बाद भी कोरोना से लड़ने के लिए व्यवस्था शून्य साबित हो रही है ।आज लगभग प्रदेश के आधे से ज्यादा जिलों में आरटी -पीसीआर टेस्ट ही नहीं हो रहा। सरकार के द्वारा कोविड-19 संबंधी बनाए गए जिला स्तरीय अस्पतालों में सही ढंग से ऑक्सीजन प्लांट भी नहीं लग सका है। ऐसा नहीं है की सरकार के पास अर्थाभाव हो। इस 1 वर्ष की अवधि में पूरे प्रदेश में बड़े पैमाने पर आर्थिक अनियमितता की शिकायत मिलती रही।   जांजगीर-चांपा जिले में ही बड़ी संख्या में यात्री प्रतीक्षालय बनाए गए, जो आज किसी काम के नहीं है । इन यात्री प्रतिक्षालय में लोग बैठकर शराब पी रहे हैं । यात्री प्रतीक्षालय बनाए जाने के लिए डीएमएफ की राशि का दुरुपयोग किया गया।  1-1 यात्री प्रतीक्षालय के लिए 6 लाख तक खर्च किए गए ।इन्हीं सब राशि से अस्पतालों की दशा सुधारी जा सकती थी । यह दुर्भाग्यपूर्ण है जब प्रदेश में कोरोना के आंकड़े बढ़ रहे थे तब प्रदेश के मुखिया असम में चुनाव प्रचार कर रहे थे। दूसरी ओर संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने पर एक तरफ पूरे प्रदेश  में प्रशासन द्वारा होली परनसार्वजनिक कार्यक्रमों को प्रतिबंधित कर दिया गया ,वहीं दूसरी तरफ रायपुर में रोड सेफ्टी क्रिकेट का आयोजन कराया गया। इस क्रिकेट प्रतियोगिता में प्रतिदिन कोरोना संबंधी प्रोटोकाल का खुलेआम उल्लंघन किया गया।  हजारों की भीड़ को बिना समुचित सुरक्षा व्यवस्था के इकट्ठा किया गया।
 आज पूरे प्रदेश में कोरोना ने जो महामारी का रूप ले लिया है ,उसका कारण कहीं ना कहीं सरकार द्वारा क्रिकेट के आयोजन के संबंध में हुई बड़ी चूक ही है । समय रहते सरकार को महाराष्ट्र सीमा को सील किया जाना था, वह भी नहीं किया ।असम में  6 अप्रैल को अंतिम चरण के चुनाव के पश्चात सरकार थोड़ी बहुत हरकत में आई परंतु वह भी अपर्याप्त और जिम्मेदारी से भागने वाला ही साबित हुआ। शासन ने पूरी जवाबदारी जिला स्तर पर प्रशासन के ऊपर छोड़ दिया ।
लॉकडाउन से लेकर सभी प्रकार की व्यवस्था से यह सरकार भागती नजर आई। वर्तमान संकट काल में भी सरकार के दो ही काम रह गए हैं ,पहला अपनी खुद की पीठ थपथपाना ,डींगें  हांकना और दूसरा काम सारा दोष दूसरों पर मढ देना।सरकार की इस नाकामी का शिकार प्रदेश की भोली भाली जनता हो रही है। भारतीय जनता पार्टी भूपेश सरकार की इस अकर्मण्य और अव्यवस्थित नीति की निंदा करती है। सरकार के द्वारा स्वास्थ्य सम्बन्धी व्यवस्था खड़ा कर पाने में असफलता के विरोध में आज भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रदेश भर के सभी पोलिंग बूथ पर सरकार विरोधी प्रदर्शन किया गया।जांजगीर जिला मुख्यालय में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रतिनिधि (प्रशिक्षण) प्रशांत सिंह ठाकुर ने अपने निवास में भूपेश बघेल के प्रतीकात्मक पुतले को बल्ले के साथ क्रिकेट पिच पर खड़ा कर प्रदर्शन किया ।इस अनोखे प्रदर्शन में उन्होंने दिखाया की प्रदेश की भूपेश सरकार क्रिकेट खेलने में व्यस्त है । उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की नासमझ 'पोपटलाल' की सरकार ने गोकुल धाम रूपी छत्तीसगढ़ की पूरी व्यवस्था को उल्टा- पुल्टा कर दिया है।