13वां दक्षिण एशियाई सांस्कृतिक युवा महोत्सव संपन्न

रंजन सोढ़ी की रिपोर्ट कुरुक्षेत्र ।भारतीय विश्वविद्यालय संघ के तत्वावधान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 5 दिवसीय 13वां दक्षिण एशियाई सांस्कृतिक युवा महोत्सव शुक्रवार को संपन्न हो गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद एवं पद्म विभूषण से सम्मानित नृत्यांगना सोनल मानसिंह थी। उन्होंने कहा कि भारत की कला, संस्कृति एवं विविधता भारत का सबसे
 | 
13वां दक्षिण एशियाई सांस्कृतिक युवा महोत्सव संपन्न

रंजन सोढ़ी की रिपोर्ट

कुरुक्षेत्र ।भारतीय विश्वविद्यालय संघ के तत्वावधान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 5 दिवसीय 13वां दक्षिण एशियाई सांस्कृतिक युवा महोत्सव शुक्रवार को संपन्न हो गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद एवं पद्म विभूषण से सम्मानित नृत्यांगना सोनल मानसिंह थी। उन्होंने कहा कि भारत की कला, संस्कृति एवं विविधता भारत का सबसे बड़ा गौरव है। इसका सम्मान प्रत्येक व्यक्ति को करना चाहिए। हमारे देश की मिट्टी में पनपी यह विविध संस्कृति उसका सम्मान है।
युवाओं को मिला एक दूसरे को समझने का मौका
करनाल से सांसद संजय भाटिया ने कहा कि सांस्कृतिक महोत्सव से दक्षिण एशियाई क्षेत्र के देशों व युवाओं को एक दूसरे को जानने समझने का मौका मिलेगा। इस सांस्कृतिक महोत्सव से निकला संदेश पूरे दक्षिण एशिया में प्रेम, प्यार व भाईचारा बढ़ेगा। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. कैलाश चन्द्र शर्मा ने कहा कि दक्षिण एशियाई सांस्कृतिक महोत्सव का सफल आयोजन कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के लिए गौरव रहा है। इस महोत्सव से दक्षिण एशियाई देशों व भारत के विभिन्न राज्यों से आए युवाओं के बीच आपसी समझ, समयोजन व सहभागिता बढ़ेगी जिससे विभिन्न देशों के बीच आपसी सामंजस्य व सद्भाव भी बढ़ेगा।
युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक प्रो. तेजेन्द्र शर्मा ने कहा कि खुशहाल, समृद्ध दक्षिण एशिया बने इस उद्देश्य से दक्षिण एशिया के 5 देशों व भारत के 28 विश्वविद्यालयों के युवाओं को एक साथ एक मंच पर लाने में यह सफल रहा है।
महोत्सव का सबसे बड़ा आकर्षण सोनल मान सिंह के समूह द्वारा प्रस्तुत की गई प्रस्तुतियां रही। एक घंट तक चली इन प्रस्तुतियों ने दर्शकों को मंत्र-मुग्ध कर दिया।
अदभुत था माहौल’
समापन समारोह में रायल यूनिवर्सिटी, भूटान के युवा कलाकार ने कहा कि भारत की विविधता ही उसकी सबसे बड़ी खूबी है। एक देश में इतनी अधिक सांस्कृतिक विविधता हो सकती है यह उन्होंने यहां आकर देखी। जिस तरह का सांस्कृतिक माहौल उन्होंने यहां देखा वह अदभुत था।