हाथरस का दर्द छलका हरियाणा में, योगी का पुतला जलाया

ईसम सिंह के साथ प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट हिसार: उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप के बाद दलित युवती की हत्या के खिलाफ आज हिसार, हांसी, फतेहाबाद, रतिया व बरवाला समेत कई जगहों पर में विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने जगह-जगह प्रदर्शन किए गए और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के पुतले फूंके। हिसार
 | 
हाथरस का दर्द छलका हरियाणा में, योगी का पुतला जलाया

ईसम सिंह के साथ प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट

हिसार: उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप के बाद दलित युवती की हत्या के खिलाफ आज हिसार, हांसी, फतेहाबाद, रतिया व बरवाला समेत कई जगहों पर में विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने जगह-जगह प्रदर्शन किए गए और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के पुतले फूंके।

हिसार में एसयूसीआई (कम्युनिस्ट) के बैनर तले शहर में जोरदार विरोध प्रदर्शन किया और आईजी चौक पर योगी सरकार का पुतला दहन किया। पार्टी के राज्य कमेटी सदस्य एवं जिला सचिव मेहरसिंह बांगड़ ने इस अवसर पर कहा कि गैंगरेप व दरिंदगी की इस घिनौनी घटना के दोषियों को प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने पहले तो गिरफ्तार नहीं किया और फिर पीड़ति की मौत होने पर मां-बाप-परिवार की सहमति के बिना ही रात के अंधेरे में पुलिस ने जबरन दाह-संस्कार कर दिया। उन्होंने कहा कि सरकार की मर्जी के बिना यह कदापि नहीं हो सकता था। इस तरह उत्तर प्रदेश सरकार ने खुद ही पीड़ति पक्ष का उत्पीड़न किया है और अपराधियों का दुसाहस बढ़ाया है।

एसयूसीआई (कम्युनिस्ट) ने इस दोहरे अपराध का कड़ा विरोध किया है। उन्होंने कहा कि बाड़ ही खेत को खाने वाली जैसी घटना उत्तर प्रदेश में कोई पहली बार नहीं हो रही। यह कतई असहनीय है। समस्त समाज को इसके खिलाफ अपनी आवाज बुलन्द करने की जरूरत है। साथ ही, उन्होंने देश की वैधानिक व न्यायिक संस्थानों से इस पूरे प्रकरण को गंभीरता के साथ दर्ज करने और बहन-बेटियों की अस्मत व जीवन की रक्षा के साथ नागरिक अधिकारों का बचाव करने की भी मांग की। पुतला दहन करते हुए प्रदर्शनकारियों ने ‘दरिंदों को फांसी दो‘,‘जस्टिस वर्मा आयोग की सिफारिशों को लागू करो‘,‘शराब के ठेके बंद करो‘ और ‘अश्लीलता पर रोक लगाओ‘ आदि नारे लगाए।

हांसी में आम आदमी पार्टी, दलित अधिकार मंच, अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति, अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन व नगर पालिका सफाई कर्मचारी संघ के सदस्यों ने शहर में प्रदर्शन किया। बाद में उन्होंने पीड़ति परिवार को न्याय दिलाने की मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम एसडीएम हांसी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से संगठनों के सदस्यों ने मुकदमे की जांच सीबीआई से करवाए जाने, मुकदमे को दिल्ली की अदालत में ट्रांसफर किये जाने, पीड़ित परिवार व मुकदमे के गवाहों की सुरक्षा बढ़ाए जाने, पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने, सभी आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने, पुलिस अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किए जाने व उत्तर प्रदेश की मौजूदा सरकार को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किए जाने की मांग की। फतेहाबाद में भी विभिन्न दलित संगठनों के प्रतिनिधियों ने यूपी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करके राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर आरोपियों को कड़ी सजा देने व पीड़ति परिवार को पूर्ण सुरक्षा एवं आर्थिक मदद देने की मांग की।