हरियाणा में जहरीली शराब ने छीन लीं 34 जिंदगियां

बलदेव सिंह की रिपोर्ट हरियाणा में जहरीली शराब ने कहर बरपा दिया है और सोनीपत व पानीपत में पिछले दो दिन में जहरीली शराब पीने से 34 लोगों की जान चली गई है। गुरुवार को पानीपत के गांव धनसौली में शराब का सेवन करने से चार ग्रामीणों की संदिग्ध मौत हो गई, जबकि तीन की मौत
 | 
हरियाणा में जहरीली शराब ने छीन लीं 34 जिंदगियां

बलदेव सिंह की रिपोर्ट

हरियाणा में जहरीली शराब ने कहर बरपा दिया है और सोनीपत व पानीपत में पिछले दो दिन में जहरीली शराब पीने से 34 लोगों की जान चली गई है। गुरुवार को पानीपत के गांव धनसौली में शराब का सेवन करने से चार ग्रामीणों की संदिग्ध मौत हो गई, जबकि तीन की मौत बुधवार को ही हो गई थी। ग्रामीणों का आरोप है कि शराब जहरीली या मिलावटी थी। उधर, सोनीपत सिटी थाना क्षेत्र की कालोनियों में लोगों की संदिग्ध अवस्था में मौत का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा। यहां 12 घंटे में रिटायर्ड सीआरपीएफ  जवान समेत सात लोगों की जान चली गई। महज दो दिन में इस इलाके में 27 लोगों की जान जा चुकी है, जिनमें अधिकतर की मौत शराब पीने के बाद होने की बात बताई जा रही है। सरकार ने तुरंत हरकत में आते हुए शराब की अवैध फैक्टरियों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पानीपत के गांव धनसौली में बुधवार की रात बिजेंद्र पुत्र ज्ञानी, बलबीर पुत्र प्यारा, सत्यपाल पुत्र रूला व इस्लाम पुत्र फकीर ने अलग-अलग स्थानों पर शराब का सेवन किया था। देर रात उनकी हालत बिगड़ने लगी।

परिजनों ने उनको सनौली तथा आसपास के अस्पतालों में भर्ती कराया मगर उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। परिजनों ने गुरुवार को मौत की सूचना थाना सनौली पुलिस को देने की बजाय इनके अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी। इसी बीच, सूचना मिलने पर थाना सनौली के एसएचओ सुरेंद्र सिंह दलबल के साथ गांव में पहुंच गए और उनके परिजनों से मौत के कारणों के बारे में पूछताछ की। मगर ग्रामीण टालमटोल करने की कोशिश करने लगे। गांव के मौजूदा हालत देख सुरेंद्र सिंह ने सहयोग के लिए थाना बापौली पुलिस को भी गांव में बुला लिया और गांव की नाकाबंदी कर जांच शुरू कर दी। इसी बीच, पुलिस के पहुंचने के दौरान परिजनों ने इस्लाम को दफनाने की तैयारी कर ली थी। वहीं अंतिम संस्कार के लिए सत्यपाल के शव को शमशान भूमि ले जाया जा चुका था। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए बिजेंद्र, इस्लाम, बलबीर, सत्यपाल के शवों का पंचनामा भरा और पोस्टमार्टम के लिए पानीपत के सिविल अस्पताल भिजवा दिया। पुलिस ने फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉक्टर से चारों शवों का पोस्टमार्टम करवाया।

वहीं डॉक्टर ने पोस्टमार्टम के दौरान चारों शवों को विशेष विसरा लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला में भिजवाया है। पोस्टमार्टम  करने वाले डॅ. नारायण डबास ने बताया कि चारों शवों का विसरा जांच के लिए लैब में भिजवाया गया है, ताकि इनकी मौत के सही कारणों का पता चल सके। इससे पहलेराज मिस्त्री रमेश के साथ काम करने वाले मजदूर शिव कुमार पुत्र राजपाल निवासी गांव राणा माजरा की बुधवार की सुबह उसके ही घर पर मौत हो गई थी। मजदूर शिव कुमार भी कथित रूप से शराब पीने का आदी था और उसने रमेश मिस्त्री व मृतक बलबीर के घर पर इनके साथ शराब पी थी। ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि शराब मिलावटी या जहरीली थी, जिसकी वजह से यह हादसा हो गया। परिजनों ने तीनों का बिना पुलिस को सूचना दिए ही इनकी प्राकृतिक मौत होना मान कर अंतिम संस्कार कर दिया था। अब मामला बड़ा होने के बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू की, तो मौतों का कारण जहरीली शराब सामने आ रहा है।