संदिग्ध मौत से सनसनी, युवक का सिर धड़ से अलग

मनोज उनियाल की रिपोर्ट धर्मशाला – धर्मशाला में सोमवार की सुबह चड़ी रोड सुधेड़-मकलोडगंज बाइपास के पास संदिग्ध शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। शव का धड़ वन निगम कार्यालय के पास नाली में पड़ा हुआ था, जबकि सर के ऊपर का हिस्सा चीलगाड़ी में मिला। इतना ही नहीं, मृतक की टैक्सी गाड़ी लगभग
 | 

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

धर्मशाला – धर्मशाला में सोमवार की सुबह चड़ी रोड सुधेड़-मकलोडगंज बाइपास के पास संदिग्ध शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। शव का धड़ वन निगम कार्यालय के पास नाली में पड़ा हुआ था, जबकि सर के ऊपर का हिस्सा चीलगाड़ी में मिला। इतना ही नहीं, मृतक की टैक्सी गाड़ी लगभग डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर सुधेड़ के मैदान में क्षतिग्रस्त हालत में मिली। वहीं, इससे पहले आधी रात को मृतक के साथी ने नशे की हालत में थाने में पहुंचकर बताया कि उनके वाहन की किसी अन्य वाहन से दुर्घटना हो गई है और शव व गाड़ी उसने नशे की हालत में पता नहीं कहां छोड़ दिए हैं? इस पर पुलिस रात से ही शव को तलाशने में जुटी रही, लेकिन उनको शव कहीं भी नहीं मिल पाया, जबकि सोमवार की सुबह ही लोगों ने शव को बाइपास के पास नाली में पड़ा देखकर पुलिस को सूचित किया। इसके बाद अब पुलिस सभी पहलुओं को खंगालने में जुटी हुई है, वहीं जिस वाहन से दुर्घटना हुई है, उसे भी खोजने का प्रयास किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय के धर्मशाला-चड़ी रोड पर वन निगम के कार्यालय के सामने सड़क किनारे नाली में टैक्सी चालक का संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिला। इसकी सूचना मिलते ही सदर थाना धर्मशाला की टीम भी मौके पर पहुंच गई तथा शव को अपने कब्जे में ले लिया। मृतक की पहचान जसविंदर सिंह (31) उर्फ लामा निवासी सुधेड़ के रूप में हुई है। इस मामले में पुलिस ने मृतक टैक्सी चालक के साथी राजीव थापा को गिरफ्तार किया है। प्रारंभिक पूछताछ में मृतक के साथी ने बताया है कि रविवार शाम को वह चीलगाड़ी के जंगल में पार्टी करने गए थे। पार्टी करने के उपरांत जब वे रात को वापस कार में घर के लिए आ रहे थे, तो उनकी कार को किसी अज्ञात वाहन ने जोरदार टक्कर मार दी। इस टक्कर से जसविंदर के सिर में गंभीर चोट आ गई थी, उसका सिर फट गया था। इस दुर्घटना से वह सहम गया और घायल जसविंदर को लेकर चड़ी रोड पर आ गया। पुलिस को दिए बयान में राजीव ने बताया कि उसने चड़ी रोड पर वन निगम के कार्यालय के सामने जसविंदर के शव को फेंक दिया तथा टैक्सी को सुधेड़ गांव में जाकर खड़ा कर दिया। साथ ही उसने अपने बयान में कहा है कि हादसा किस गाड़ी से हुआ, यह बात उसे याद नहीं है।

मृतक के साथी द्वारा दिए गए ब्यानों के आधार पर पुलिस ने चीलगाड़ी जंगल व शहीद स्मारक की ओर जाने वाली सड़क पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालना शुरू कर दिया है। वहीं फोरेंसिक लैब की टीम ने भी तीनों घटना स्थलों का दौरा कर साक्ष्य जुटाए हैं।

पुलिस अधीक्षक कहते हैं

एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने बताया कि संदिग्ध अवस्था में मिले शव के मामले में आरोपी रात दो बजे के लगभग पुलिस थाना में आया था। इस दौरान उसने एक्सीडेंट के बारे में बताया तथा पुलिस अधिकारी मौके पर गए तो वहां पर ब्रेन का कुछ हिस्सा गिरा था। सोमवार सुबह किसी ने पुलिस को सूचित किया कि बाइपास के पास शव पड़ा है। सभी कडि़यों का मिलान पुलिस द्वारा किया जा रहा है। प्रारंभिक जांच में यह एक्सीडेंट नज़र आ रहा है। पुलिस ने 279 और 304-ए के तहत मामला दर्ज किया है, क्योंकि ड्राइवर काफी ज्यादा नशे की हालत में था। जिस गाड़ी ने उनकी कार ने टक्कर मारी है, उसकी तलाश की जा रही है।