शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे

रश्मि प्रभा की रिपोर्ट देहरादून। रात 12 बजते ही द्रोणनगरी महाशिवरात्रि के रंग में सराबोर हो गई। शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे। इसके साथ ही भोलेनाथ के जलाभिषेक और पूजा-अर्चना का दौर शुरू हो गया। टपकेश्वर समेत शहर के सभी शिवालयों में गुरुवार को
 | 
शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे

रश्मि प्रभा की रिपोर्ट

 देहरादून। रात 12 बजते ही द्रोणनगरी महाशिवरात्रि के रंग में सराबोर हो गई। शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे। इसके साथ ही भोलेनाथ के जलाभिषेक और पूजा-अर्चना का दौर शुरू हो गया।

टपकेश्वर समेत शहर के सभी शिवालयों में गुरुवार को रात होते ही महादेव के जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी थी। मध्यरात्रि में शिव की आराधना का सिलसिला शुरू हो गया। रात बीतने के साथ मंदिरों में भीड़ भी बढ़ती गई और सुबह तक शिव भक्तों का तांता लग गया। मंदिरों में की गई भव्य सजावट और शिव के अभिषेक की तैयारियां श्रद्धालुओं को रोमांचित कर रही थीं। आज श्रद्धालु व्रत रखने के साथ ही रातभर शिव की आराधना करेंगे।

प्रेमनगर स्थित श्री सनातन धर्म मंदिर में भी गुरुवार को दिनभर शिवरात्रि की तैयारियां होती रहीं। तड़के तीन बजे ही यहां शिवभक्तों की कतार लग गई। चार बजे से महादेव का जलाभिषेक शुरू हुआ। मंदिर में भोले के भक्तों के लिए ऋषिकेश से गंगाजल का टैंकर मंगाया गया है। जिसे महादेव के जलाभिषेक में प्रयोग किया जाएगा। इसके अलावा विशेष पूजा-अर्चना और भजन संध्या भी होगी।

शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने दी शिवरात्रि शुभकामनाएं

राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेशवासियों को महा शिवरात्रि पर्व पर शुभकामनाएं दी हैं। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने भी सभी प्रदेशवासियों को महा शिवरात्रि की शुभकामनाएं दी हैं। अपने संदेश में राज्यपाल ने कहा कि महाशिवरात्रि भगवान शिव एवं मां पार्वती के विवाह का पुण्य दिन है। यह शिव-भक्ति के मिलन का पर्व है। भारतीय संस्कृति में इस पर्व का अत्यंत महत्व है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह पर्व शिव एवं शक्ति की आराधना का पर्व है। शिव मनुष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर तथा असत्य से सत्य की ओर लेकर जाते हैं। यह पर्व प्रेम एवं सद्भाव का भी संदेश देता है।

आज 500 लीटर केसर के दूध में बनी खीर का प्रसाद होगा वितरित

श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में आज भोलेनाथ का फूलों से श्रृंगार कर आरती की जाएगी। साथ ही 500 लीटर केसर के दूध की मखानों से बनी खीर का प्रसाद वितरित किया जाएगा। मंदिर में दिनभर महामृत्युंजय जाप व भजन-कीर्तन होगा।

श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में भगवान भोलेनाथ का किया गया महारुद्राभिषेक

शिवालयों के साथ शहर के तमाम मंदिर बम-बम भोले और हर-हर महादेव जैसे जयकारों से गूंज उठे

सहारनपुर चौक स्थित श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में मध्य रात्रि में हरिद्वार से लाए गए गंगाजल, दूध-दही, घी, पंचामृत, भांग, धतूरा, पुष्प, बिल्वपत्र, पुष्पमाला, नारियल, रोली-मोली आदि से भगवान भोलेनाथ का महारुद्राभिषेक किया गया। रुद्री पाठों के वैदिक मंत्रोचार से शुरू हुआ भोले का अभिषेक भोर तक चलता रहा। इस दौरान मंदिर प्रांगण में 3100 दीपों की रंगोली भी बनाई गई। साथ ही अर्धनारीश्वर का भी विशाल चित्र बनाया गया। इस अवसर पर दिगंबर भागवत पुरी, दिनेश पुरी के साथ ही रंगोली संयोजक प्रवीण गुप्ता रजनीश यादव, विक्की गोयल, अनुराग गुप्ता, नवीन गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

श्री टपकेश्वर महादेव मंदिर में शुरू हुआ रुद्राभिषेक

गढ़ी कैंट स्थित श्री टपकेश्वर महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि के लिए भव्य तैयारियां की गई हैं। मंदिर रंगी-बिरंगी रोशनी से जगमगा रहा है। गुरुवार को मध्य रात्रि में ही मंदिर में महादेव का जलाभिषेक शुरू हो गया। इस दौरान वैदिक मंत्रोच्चार के साथ महंत कृष्णागिरी व भरत गिरी ने पूजा-अर्चना की। इससे पहले ब्रह्मलीन महंत मायागिरी के समाधि स्थल पर मूर्ति स्थापना की गई। साथ ही भगवान शंकर की मूर्ति का भी अनावरण किया गया। देर शाम तक सेवा दल शिवरात्रि की तैयारियों में जुटा रहा। पूजन, अभिषेक और श्रृंगार के बाद शिव की आराधना शुरू हुई। इस दौरान सेवा दल के अध्यक्ष गोपाल गुप्ता, महासचिव महेश खंडेलवाल, सचिन जैन, योगेश गुप्ता, अशीष गुप्ता, रोहित गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

शिवभक्तों ने छका बाबा भोलेनाथ का प्रसाद

श्री टपकेश्वर महादेव मंदिर में 11 हजार लीटर केसर के दूध से खीर बनाकर शिव भक्तों को प्रसाद के रूप वितरित की गई। इसके अलावा आज भी आलू-पूड़ी का प्रसाद दिया जाएगा। उधर, मंदिर के पास शिवरात्रि मेले की तैयारियां भी पूरी हो चुकी हैं। दुकानें सज चुकी हैं और झूले-चरखी आदि भी तैयार हैं।