बाबा बालक नाथ मंदिर चैत्र मास मेलों में कोरोना वायरस ने खलल डाल दिया

रोहित शर्मा की रिपोर्ट बड़सर: बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में शुरू हुए चैत्र मास मेलों में कोरोना वायरस ने खलल डाल दिया है। यही कारण है कि इस वर्ष पूर्व की भांति श्रद्धालुओं में भारी मात्र में कमी देखी जा रही है। इससे पहले बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में चैत्र मास के मेलों में
 | 
बाबा बालक नाथ मंदिर चैत्र मास मेलों में कोरोना वायरस ने खलल डाल दिया
रोहित शर्मा की रिपोर्ट
बड़सर: बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में शुरू हुए चैत्र मास मेलों में कोरोना वायरस ने खलल डाल दिया है। यही कारण है कि इस वर्ष पूर्व की भांति श्रद्धालुओं में भारी मात्र में कमी देखी जा रही है।  इससे पहले बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में चैत्र मास के मेलों में श्रद्धालुओं की भारी संख्या देखने को मिलती थी लेकिन इस बार कोरोना वायरस की वजह वह संख्या देखने को नहीं मिल रही है। उत्तरी भारत के प्रसिद्ध बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में पिछले साल की मेलों की अपेक्षा में मेलों के शुरुआती दिनों में कोरोना वायरस की वजह से यहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की तादाद में काफी कमी आई है। वहीं पंजाब तथा अन्य राज्यों में यह भी अफवाहों का दौर चलते मंदिर में श्रद्धालुओं को बाबा बालक नाथ के दर्शन नहीं किए जा रहे हैं जिस कारण भी बहुत कम श्रद्धालु यहां को दर्शन  करने के लिए आ रहे हैं।
बताते चलें कि कुछेक दुकानदारों को रोजाना श्रद्धालुओं के आजकल फोन आ रहे हैं और फोन पर वह यही बात पूछ रहे हैं कि मंदिर में दर्शन हो रहे हैं कि नहीं। उन्होंने बताया कि पड़ोसी राज्यों में यह अफवाह फैल गई है कि बाबा बालक नाथ का दरबार श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया है। वही मंदिर प्रशासन के द्वारा भी कोरोना वायरस से बचाव के लिए कड़े कदम उठाए गए हैं। मंदिर अधिकारी ओ.पी. लखनपाल की अगुवाई में श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुरक्षा व असुविधा ना हो इसके लिए उचित कदम उठाए जा रहे हैं। मंदिर प्रशासन द्वारा श्रद्धालुओं को पट्टी भी बांटी जा रही हैं जिससे कि वह अपना मुंह ढक कर ही लाइनों में लगे। इसके अलावा मंदिर प्रशासन द्वारा सैनिटाइजर से गरीलों को भी साफ किया जा रहा है जिससे कि वह भी साफ-सुथरी हो।