प्रदेश भर में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को सम्मानित किया

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला-नारी माता-बहन है, नारी जग का मूल। नारी चंडी रूप है, नारी कोमल फूल। बिन नारी बनता नहीं सुखी संसार। नारी को सम्मान दो, यह है उसका अधिकार। कुछ इन्हीं शब्दों और कविताओं के साथ रविवार को प्रदेश भर में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। इस दौरान जगह-जगह कार्यक्रम हुए और
 | 

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला-नारी माता-बहन है, नारी जग का मूल। नारी चंडी रूप है, नारी कोमल फूल। बिन नारी बनता नहीं सुखी संसार। नारी को सम्मान दो, यह है उसका अधिकार। कुछ इन्हीं शब्दों और कविताओं के साथ रविवार को प्रदेश भर में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। इस दौरान जगह-जगह कार्यक्रम हुए और महिलाओं को सम्मानित किया गया। हालांकि कुछ जगह कोरोना वायरस के खौफ ने कार्यक्रमों पर बैन लगा दिया, लेकिन जहां आयोजन हुए, वहां नारी शक्ति को सम्मानित और उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया। पीजी कालेज धर्मशाला के आडिटोरियम में जिला स्तरीय कार्यक्रम हुआ, जिसमें विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार बतौर मुख्यातिथि पहुंचे। इस मौके पर बेटियों के जीने की चाह के आधार पर कन्या भ्रूण हत्या रोकने पर प्रकाश डाला गया। ऊना में कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय राज्य वित्त मंत्री अनुराग ठाकुर ने महिलाओं के कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं पर प्रकाश डाला। इसी तरह प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यक्रम हुए, जहां महिलाओं को बधाई एवं शुभकामनाओं सहित सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त आंगनबाड़ी केंद्रों में शिशु, किशोरियों व महिलाओं के उत्थान के लिए चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की गीत संगीत व लघु नाटिकाओं के माध्यम से जानकारी दी गई।