पांच जिलों में अब लोगों को हिमस्खलन का खतरा सता रहा है

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला/चंडीगढ़ । हिमाचल प्रदेश में भले ही आज बर्फबारी का दौर थम गया और दिनभर धूप खिलने से लोगों ने कड़ाके की ठंड से हल्की राहत महसूस भी की लेकिन बर्फबारी के बाद की दुश्वारियां अभी लगातार बरकरार हैं। प्रदेश के पांच जिलों में अब लोगों को हिमस्खलन का खतरा सता
 | 
पांच जिलों में अब लोगों को हिमस्खलन का खतरा सता रहा है

मनोज उनियाल की रिपोर्ट 

शिमला/चंडीगढ़ । हिमाचल प्रदेश में भले ही आज बर्फबारी का दौर थम गया और दिनभर धूप खिलने से लोगों ने कड़ाके की ठंड से हल्की राहत महसूस भी की लेकिन बर्फबारी के बाद की दुश्वारियां अभी लगातार बरकरार हैं। प्रदेश के पांच जिलों में अब लोगों को हिमस्खलन का खतरा सता रहा है। इनमें लाहौल स्पिति, किन्नौर, चंबा, कुल्लू और शिमला जिले शामिल हैं। इन पांच जिलों में हिमस्खलन को लेकर स्थानीय प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है और लोगों को सतर्क रहने तथा घरों से बाहर न निकलने की अपील की है।
इस बीच बीती रात हुई बर्फबारी में एक बार फिर दर्जनों लोगों की सांसें आधी रात के बाद तक अटकी रहीं। देर शाम हुई भारी ओलावृष्टि के चलते शिमला-बिलासपुर सड़क पर टूटू से घनाहट्टी के बीच लगभग 600 वाहन अचानक फंस गए। इनमें 60 बसें भी शामिल थीं। बर्फबारी के कारण सड़क पर अत्यधिक फिसलन हो गई जिस कारण ये वाहन सड़क पर आढ़े-तिरछे फंस गए। इनमें बड़ी संख्या में पर्यटक वाहन भी शामिल थे। बाद में शिमला पुलिस के जवानों ने अधिकांश वाहनों को धक्का लगाकर और भारी मशीनरी से खींचकर इस सड़क को देर रात यातायात के लिए बहाल किया।

कुफरी में फिर फंसे पर्यटक सुबह तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन

शिमला से आगे हिंदुस्तान-तिब्बत सड़क पर कुफरी में भी बर्फबारी के चलते बड़ी संख्या में राज्य पथ परिवहन निगम की बसें, निजी बसें, पर्यटक वाहन और अन्य व्यावसायिक वाहन फंस गए। यही नहीं इस दौरान अचानक हुई बर्फबारी में कुफरी-चायल सड़क पर 31 पर्यटक वाहनों में 187 लोग भी फंस गए जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। पुलिस अधीक्षक शिमला ओपी जम्वाल के मुताबिक बर्फ में फंसे इन पर्यटकों को बाहर निकालने के लिए आज सुबह चार बजे तक रेस्क्यू आपरेशन चला और इन्हें वहां से निकालकर कुफरी स्थित होटल में ठहराया गया।

रिब्बा में हिमस्खलन से कई बगीचे और गौशालाएं नष्ट

किन्नौर जिला की रिब्बा पंचायत में बीती रात हिमस्खलन की चपेट में आने से कई बगीचे और गौशालाएं नष्ट हो गई। हालांकि इस घटना में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। बीती रात ही बिलासपुर जिला के बंदला में भी अचानक हिमपात हुआ। मौसम विभाग ने 20 से 22 जनवरी तक प्रदेश में वर्षा व बर्फबारी का फिर से पूर्वानुमान जारी किया है।

चंबा में भूकंप के झटके

चंबा जिला में आज सायं भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। चार बजकर 14 मिनट पर आए भूकंप के इन झटकों की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.6 मापी गई। मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि इस भूकंप का केंद्र चंबा जिला में ही जमीन के दस किलोमीटर भीतर था। भूकंप से किसी प्रकार के नुकसान की सूचना नहीं है।

पांच जिलों में अब लोगों को हिमस्खलन का खतरा सता रहा है
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में शनिवार को ताजा बर्फबारी हुई। मौसम विभाग ने बताया कि पहाड़ी राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश भी दर्ज की गई। मौसम विज्ञान केंद्र ने 20 से 23 जनवरी के बीच राज्य के ऊंची और मध्यम पहाड़ी वाले क्षेत्रों तथा मैदानी और छोटी पहाड़ियों वाले इलाकों में बारिश और बर्फबारी का पूर्वानुमान जताया है। उधर, हरियाणा और पंजाब में शीत लहर का दौर जारी है। कई इलाकों में शनिवार सुबह घना कोहरा छाए रहने के कारण दृश्यता कम हो गई। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पंजाब में अमृतसर सबसे ठंडा स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हरियाणा के हिसार में न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री, अंबाला में 6.9, करनाल में 8.6, नारनौल में 6.5, रोहतक में 6.8 और भिवानी में 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।