पहाड़ों पर बर्फबारी और ओलावृष्टि, शीतलहर का असर

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला-हिमाचल प्रदेश फिर से शीतलहर की चपेट में आ गया है। पहाड़ों पर ताजा बर्फबारी और ओलावृष्टि होने से राज्य में एक बार फिर से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। खासतौर पर प्रदेश में सुबह व शाम के समय कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग की मानें, तो
 | 

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला-हिमाचल प्रदेश फिर से शीतलहर की चपेट में आ गया है। पहाड़ों पर ताजा बर्फबारी और ओलावृष्टि होने से राज्य में एक बार फिर से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। खासतौर पर प्रदेश में सुबह व शाम के समय कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग की मानें, तो राज्य में अगामी दो दिनों के दौरान मौसम साफ बना रहेगा, जबकि पांच मार्च को मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में फिर से भारी बारिश व ओलावृष्टि होगी। इसके लिए विभाग द्वारा यलो अलर्ट जारी किया गया है। इस दौरान पहाड़ों पर भी अनेक स्थानों पर बारिश व बर्फबारी होने की संभावना जताई जा रही है। हिमाचल प्रदेश में रविवार को दिन की शुरुआत धूप खिलने के साथ हुई थी, मगर दोपहर बाद एकाएक आसमान में काले बादल घिरने शुरू हो गए थे। शिमला में इस दौरान बारिश के साथ ओलावृष्टि भी रिकार्ड की गई है। बारिश व ओलावृष्टि होने से अधिकतम तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस तक  की गिरावट आई है। न्यूनतम तापमान में भी बीते 24  घटोें के दोरान गिरावट आई है। न्ूयनतम तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई  है। कल्पा, केलांग, मनानी के बाद कुफरी का तापमान भी माइनस डिग्री में पहुंच गया है, जिसके चलते सुबह व शाम के समय ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने बताया कि राज्य में दो दिनों के दौरान मौसम साफ बना रहेगा, जबकि चार से छह मार्च तक बारिश होगी। इस दौरान तापमान में ओर गिरावट आ सकती है।