ध्वनि भरे वातावरण ने कुछ देर के लिए कुछ लोगों को तो भावुक भी कर दिया

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला: कोरोना वायरस से बनी संकट की स्थिति में आज पूरा देश एकसाथ-एकजुट है। जिसका असर सुबह रविवार 7 बजे से ‘जनता कर्फ्यू’ के शुरू होते ही देखने को मिलने लग गया था। हर तरफ दुकानें, मॉल बंद और बसें-गाड़ियों की आवाजाही बंद रही। देश का हर नागरिक अपनी जिम्मेवारी को
 | 
ध्वनि भरे वातावरण ने कुछ देर के लिए कुछ लोगों को तो भावुक भी कर दिया

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला: कोरोना वायरस से बनी संकट की स्थिति में आज पूरा देश एकसाथ-एकजुट है। जिसका असर सुबह रविवार 7 बजे से ‘जनता क‌र्फ्यू’ के शुरू होते ही देखने को मिलने लग गया था। हर तरफ दुकानें, मॉल बंद और बसें-गाड़ियों की आवाजाही बंद रही। देश का हर नागरिक अपनी जिम्मेवारी को बखूबी निभाता नजर आया। इस समय हर शख्स का अपने परिवार, शहर और पूरे देश के लिए बेहद अहम फर्ज निभाने का वक्त है। यह शुरुआत है और हम सभी को इस जंग में जीतना है कोरोना वायरस का जहर अपने देश से खत्म करके ही दम लेना है।
रविवार को ‘जनता क‌र्फ्यू’  के साथ ही पूरे प्रदेश और देश ने ठीक शाम पांच बजे सभी जगह से लोगों ने थाली, घंटी, शंख और ताली बजाकर कोरोना फाइटर का आभार जताया।वहीं शिमला में भी लोगों ने ठीक शाम पांच बजे सभी जगह से थाली, घंटी, शंख और ताली बजाकर कोरोना फाइटर का धन्यवाद किया। पूरा शिमला ध्वनि की तरंगों से गूंज उठा। दिल को छूने वाले ध्वनि भरे वातावरण ने कुछ देर के लिए कुछ लोगों को तो भावुक भी कर दिया।