देश का झंडा बुलंद करने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा सहित आठ हिमाचली सपूतों के भव्य स्मारक बनाएगी सरकार

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला। जयराम सरकार देश का झंडा बुलंद करने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा सहित आठ हिमाचली सपूतों के भव्य स्मारक बनाएगी। इसमें परमवीर चक्र, विक्टोरिया क्रॉस तथा अशोक चक्र जीतने वाले हिमाचली जांबाजों को शामिल किया गया है। अदम्य साहस दिखा कर देश की रक्षा करने वाले इन सपूतों के महात्मा गांधी
 | 

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला। जयराम सरकार देश का झंडा बुलंद करने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा सहित आठ हिमाचली सपूतों के भव्य स्मारक बनाएगी। इसमें परमवीर चक्र, विक्टोरिया क्रॉस तथा अशोक चक्र जीतने वाले हिमाचली जांबाजों को शामिल किया गया है। अदम्य साहस दिखा कर देश की रक्षा करने वाले इन सपूतों के महात्मा गांधी व इंदरा गांधी की तरह स्टेच्यू बनेंगे। हिमाचल का माथा गर्व से ऊंचा करने वाले इन महान सपूतों को जयराम सरकार सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करने के मूड में है। इसके चलते मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पूर्व सैनिक विभाग के अफसरों को पॉलिसी तैयार करने के लिए कहा है। सीएम ने कहा है कि इसकी पॉलिसी कैबिनेट की अगली बैठक में लाई जाए। मुख्यमंत्री ने विभाग को आदेश दिए हैं कि मेजर सोमनाथ शर्मा सहित सभी आठ हिमाचली सपूतों के स्टेच्यू बनाने के लिए उनके परिजनों से संपर्क साधा जाए। परिजनों की सहमति से ही भूमि चयन की प्रक्रिया शुरू की जाए। बहरहाल जयराम सरकार की अगली कैबिनेट हिमाचल विधानसभा के बजट सत्र के बीच संभावित है। उम्मीद है कि मार्च महीने की पहली या दो तारीख को मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित होगी। इस दौरान पूर्व सैनिकों के हित में तैयार की जा रही पॉलिसी को कैबिनेट की मंजूरी के लिए लाया जा रहा है। इसके बाद परमवीर चक्र, अशोक चक्र व विक्टोरिया क्रॉस अवार्डी के स्टेच्यू बनाने की प्रक्रिया आरंभ होगी। उल्लेखनीय है कि कांगड़ा जिला के डाढ़ से ताल्लुक रखने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा को वर्ष 1947-48 में परमवीर चक्र दिया गया था। यह सम्मान पाने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा देश के पहले सैनिक थे। इसी जिला के पालमपुर से संबंध रखने वाले कैप्टन विक्रम बतरा की शहादत को पूरी दुनिया ने देखा है। कारगिल युद्ध में पाकिस्तान के सैनिकों के साथ जबरदस्त जंग लड़ने वाले कैप्टन विक्रम बतरा का अदम्य साहस देश भर के सैनिकों के लिए प्रेरणा बना है। उन्हें वर्ष 1999 में परमवीर चक्र दिया गया था। शिमला जिला के डीएस थापा ने अपने साहस की अभूतपूर्व मिशाल पेश करते हुए देश की रक्षा की थी। इस कारण डीएस थापा को वर्ष 1962 में परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। बिलासपुर जिला के झंडूता से सटे बकेन गांव के संजय कुमार को भी बहादुरी के लिए वर्ष 1999 में परमवीर चक्र दिया गया था। हिमाचल प्रदेश के इन चार परमवीर चक्र विजेताओं की याद में भव्य स्टेच्यू बनेंगे। इसके अलावा अशोक चक्र जीतने वाले कांगड़ा जिला के पालमपुर से सटे बनूरी गांव के कैप्टन सुधीर कुमार तथा शिमला जिला के फोरेस्ट कालोनी खलीनी के कर्नल जसबीर सिंह राणा के स्टेच्यू बनेंगे। इसके अलावा दो हिमाचली सपूतों को विक्टोरिया क्रॉस मिला है। इस सूची में शामिल हमीरपुर जिला के परोल गांव के एनके लाला और बिलासपुर जिला के मेजर भंडारी राम के भव्य स्मारक बनेंगे।

इन हिमाचल सपूतों को मिलेगा सम्मान

नाम अवार्ड ताल्लुक सम्मानित
मेजर सोमनाथ शर्मा परमवीर डाढ़ (कांगड़ा)    1948
कै. बिक्रम बतरा परमवीर पालमपुर (कांगड़ा) 1999
ले. डीएस थापा परमवीर लोकल (शिमला) 1962
एच. संजय कुमार परमवीर झंडूता (बिलासपुर) 1999
कै. सुधीर कुमार अशोक बनूरी (कांगड़ा) 2000
कर्नल जसबीर सिंह अशोक खलीनी (शिमला) 1985
एनके लाला विक्टोरिया परोल (हमीरपुर) 1916
मेजर भंडारी राम विक्टोरिया ओथेड़ (बिलासपुर) 1945