तिरंगे के अपमान पर घिरीं महबूबा, भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीडीपी मुख्यालय पर तिरंगा फहराया

अरमान अली की रिपोर्ट जम्मू-कश्मीर में पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के तिरंगा विरोधी बयान पर सोमवार को घाटी में जमकर बवाल हुआ। भाजपा कार्यकर्ताओं ने महबूबा के बयान के खिलाफ प्रदेश में कई जगहों पर तिरंगा यात्रा निकाली और प्रदर्शन किया। उन्होंने जम्मू में पीडीपी मुख्यालय पर तिरंगा फहरा दिया, तो राजधानी श्रीनगर में लाल चौक
 | 
तिरंगे के अपमान पर घिरीं महबूबा, भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीडीपी मुख्यालय पर तिरंगा फहराया

अरमान अली की रिपोर्ट

जम्मू-कश्मीर में पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के तिरंगा विरोधी बयान पर सोमवार को घाटी में जमकर बवाल हुआ। भाजपा कार्यकर्ताओं ने महबूबा के बयान के खिलाफ  प्रदेश में कई जगहों पर तिरंगा यात्रा निकाली और प्रदर्शन किया। उन्होंने जम्मू में पीडीपी मुख्यालय पर तिरंगा फहरा दिया, तो राजधानी श्रीनगर में लाल चौक के क्लॉक टॉवर पर तिरंगा फहराने को भी पहुंच गए। इस दौरान वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने तीन भाजपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। हिरासत में लिए गए कार्यकर्ता भाजपा की कुपवाड़ा ईकाई से संबंधित हैं। पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के तिरंगा विरोधी बयान के खिलाफ  वे तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे। तीनों की पहचान मीर बशरत, मीर इशफाक और अख्तर खान के रूप में हुई है। बशरत ने कहा कि हम गुपकार घोषणा के सदस्यों को यह मैसेज देने के लिए लाल चौक पर तिरंगा फहराने आए थे कि कश्मीर में केवल तिरंगा ही रहेगा।

हम उस दिन को सेलिब्रेट करने के लिए आए थे, जिस दिन महाराजा हरि सिंह ने केंद्र के साथ जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के समझौतौं पर हस्ताक्षर किए थे। वहीं, जम्मू में पीडीपी के खिलाफ  प्रदर्शन में भाजपा कार्यकर्ता काफी संख्या में तिरंगा लेकर पहुंचे थे। महबूबा मुफ्ती के बयान पर उग्र भाजपा कार्यकर्ताओं ने जम्मू में सोमवार को पीडीपी के कार्यालय पर तिरंगा फहराकर अपना विरोध जताया। काफी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता पार्टी कार्यालय पहुंचे थे। उन्होंने वहां जमकर नारेबाजी की। बता दें कि महबूबा ने बीते दिनों कहा था कि जब तक प्रदेश में आर्टिकल 370 के निरस्त प्रावधानों को फिर से लागू नहीं किया जाएगा, तब तक वह तिरंगा नहीं थामेंगी। उल्लेखनीय है कि 26 अक्तूबर, 1947 में महाराजा हरि सिंह ने भारत में कश्मीर का विलय करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

पीडीपी में भी बगावत, तीन नेताओं का इस्तीफा

तिरंगे के अपमान पर घिरीं महबूबा, भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीडीपी मुख्यालय पर तिरंगा फहराया

अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती पर तिरंगे को लेकर बयान देना भारी पड़ गया है। सोमवार को महबूबा मुफ्ती के बयान से नाराज पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। पीडीपी से इस्तीफा देने वाले तीन नेताओं में टीएस बाजवा, वेद महाजन और हुसैन-ए-वफा ने पार्टी प्रमुख महबूबा मुफ्ती को पत्र भी लिखा है, जिसमें नेताओं ने उनके बयान पर नाराजगी जताई है। महबूबा मुफ्ती ने बीते दिनों बयान दिया था कि जब तक घाटी में आर्टिकल 370 के निरस्त प्रावधान दोबारा लागू नहीं हो जाते, तब तक वह तिरंगा नहीं थामेंगी। उनके इस बयान के बाद से ही घाटी में बवाल मचा हुआ है और भाजपा ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। गौर हो कि पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती हाल ही में 14 महीने बाद हिरासत से बाहर आई हैं।