डोगरी और कश्मीरी को अधिकारिक भाषा का दर्जा मिलने पर पीओजेके में भी खुशी

अरमान अली की रिपोर्ट जम्मू: जम्मू कश्मीर के केन्द्र प्रशासित राज्य बनने के बाद यूटी में डोगरी और कश्मीरी को अधिकारिक दर्जा मिलने पर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भी खुशी की लहर है। पीओजेके का उदारवादी तबका इसे सरकार का बेहतरीन कदम करार दे रहा है। उनका मानना है कि इससे दोनों भाषाओं को प्रोमोशन मिलेगा
 | 
डोगरी और कश्मीरी को अधिकारिक भाषा का दर्जा मिलने पर पीओजेके में भी खुशी

अरमान अली की रिपोर्ट

जम्मू: जम्मू कश्मीर के केन्द्र प्रशासित राज्य बनने के बाद यूटी में डोगरी और कश्मीरी को अधिकारिक दर्जा मिलने पर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भी खुशी की लहर है। पीओजेके का उदारवादी तबका इसे सरकार का बेहतरीन कदम करार दे रहा है। उनका मानना है कि इससे दोनों भाषाओं को प्रोमोशन मिलेगा और उन्हें अपने प्रदेशों में सम्मान मिलेगा।

लंदन में रहने वाले पीओजेके के नागरिक डा अमजद आयूब मिर्जा ने इसे बेहतरीन कदम करार दिया है। उन्होंने कहा,मैं इंडियन केबिनेट का शुक्रियाअदा करना चाहता हूं जिन्होंने संसद में यह बिल पास किया। उन्होंने कहा कि जो लोग कहते थे कि धारा 370 और अनुच्छेद 35ए हटने के बाद जम्मू कश्मीर की पहचान खत्महो र्गइ  है वो लोग गलत है क्योंकि जम्मू कश्मीर को शिनाखत मिली ही धारा 370हटने के बाद हैं उन्होंने उम्मीद जताई कि जब पीओजेके जम्मू कश्मीर के साथ मिलेगा तो पहाड़ी भाषा को भी दर्जा मिलेगा।