जिंदगी वापस पटरी पर आने से पहले फिर शुरू हो गई बर्फबारी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला। हिमाचल प्रदेश में बीते दिनों हुई बर्फबारी की दुश्वारियों से अभी प्रदेशवासी उबर भी नहीं पाए थे कि राज्य में एक बार फिर बर्फबारी का दौर आरंभ हो गया है। आज राज्य के जनजातीय जिला किन्नौर, लाहौल स्पिति, चंबा जिला के पांगी तथा भरमौर, मनाली और शिमला जिला के चांशल
 | 
जिंदगी वापस पटरी पर आने से पहले फिर शुरू हो गई बर्फबारी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट 

शिमला। हिमाचल प्रदेश में बीते दिनों हुई बर्फबारी की दुश्वारियों से अभी प्रदेशवासी उबर भी नहीं पाए थे कि राज्य में एक बार फिर बर्फबारी का दौर आरंभ हो गया है। आज राज्य के जनजातीय जिला किन्नौर, लाहौल स्पिति, चंबा जिला के पांगी तथा भरमौर, मनाली और शिमला जिला के चांशल तथा चूड़धार में दोपहर बाद से रुक-रुक कर बर्फबारी हो रही है जिससे दिन के तापमान में जोरदार गिरावट आई है। कल्पा में आज 13 सेंटीमीटर जबकि मनाली में 4 सेंटीमीटर ताजा बर्फ दर्ज की गई।
प्रदेश में मौसम के फिर से करवट बदलने और वर्षा तथा बर्फबारी का सिलसिला शुरू होने के चलते प्रदेशवासियों को एक बार फिर कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ेगा। प्रदेश में बीते दिनों हुई बर्फबारी की दुश्वारियों का इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पिछली बर्फबारी हुए पांच दिन बीत चुके हैं लेकिन प्रदेश की 455 सड़कें अभी भी बंद हैं। इनमें तीन राष्ट्रीय राजमार्ग भी शामिल हैं। सर्वाधिक 317 सड़कें शिमला जोन में, 86 सड़कें मंडी जोन में और 49 सड़कें कांगड़ा जोन में बंद हैं। जनजातीय जिला किन्नौर में कुल 80 संपर्क सड़कों में से अभी भी आधे से अधिक सड़कें बंद हैं।
इस बीच मौसम विभाग ने कल 13 जनवरी को प्रदेश में भारी बर्फबारी, वर्षा, ओलावृष्टि और अंधड़ को देखकर ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। यह अलर्ट शिमला, चंबा, कुल्लू, किन्नौर और लाहौल स्पिति जिलों के लिए जारी किया है। मौसम विभाग के स्थानीय निदेशक मनमोहन सिंह के मुताबिक प्रदेश में 18 जनवरी तक मौसम के तेवर बिगड़े रहेंगे और इस दौरान अधिकांश स्थानों पर वर्षा तथा बर्फबारी की संभावना है।
डीसी ने की उच्च अधिकारियों के साथ बैठक
उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने आज शिमला में आगामी बर्फबारी के संदर्भ में उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने लोक निर्माण विभाग, नगर निगम, पुलिस, परिवहन, विद्युत, राष्ट्रीय उच्च मार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों से गहन विचार-विमर्श किया और उनसे सुझाव मांगे ताकि जिले में लोगों को बर्फबारी के दौरान कोई दिक्कत न आए। उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए तथा बेहतर समन्वय स्थापित करने पर बल दिया ताकि जनजीवन बर्फबारी के दौरान सामान्य रहे।
केलांग में सबसे अधिक ठंड
लाहौल स्पिति का केलांग आज भी प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान -11.3 डिग्री, कल्पा में -4 और मनाली में -0.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस दौरान राज्य के निचले इलाकों में न्यूनतम तापमान में हल्का सुधार हुआ है जिससे लोगों को ठंड से राहत मिली है।
फिसलने से एक और की मौत
शिमला (एजेंसी) : हिमाचल प्रदेश के शिमला में फिसलन भरी सड़क पर गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। शहर में बुधवार को हुई भारी बर्फबारी के बाद से इस वजह से हुई मौत का यह दूसरा मामला है। पुलिस ने बताया कि 59 वर्षीय महिपाल का शव रविवार की सुबह लव-कुश चौक के पास सीढ़ियों पर मिला। उन्होंने बताया कि कृष्णा नगर के रहने वाले इस व्यक्ति की मौत फिसलन वाली सड़क पर गिरने के बाद हो गई। गौरतलब है कि शुक्रवार को भी तिब्बती कॉलोनी के पास फिसलन वाली बर्फीली सड़क पर गिरने से 77 वर्षीय कंचौक की मौत हो गई थी
कांगड़ा में 3.4 तीव्रता का भूकंप
धर्मशाला/शिमला : हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में आज भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप दिन में करीब 11.55 पर आया, जिसकी रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.4 रही। भूकंप के इन झटकों से किसी तरह के नुकसान की फिलहाल कोई सूचना नहीं है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि भूकंप का केंद्र कांगड़ा क्षेत्र रहा और जमीन से इसकी गहराई 5 किलोमीटर नीचे थी। उन्होंने कहा कि भूकंप के इन झटकों से जान-माल का कोई क्षति नहीं पहुंची है। इससे पहले आज सुबह 10.54 बजे लद्दाख में 5.3 तीव्रता का भूकंप आया था और इस भूकंप की वजह से हिमाचल के विभिन्न क्षेत्रों में भी कम्पन महसूस की गई लेकिन किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ।