चिंतपूर्णी तथा अन्य धार्मिक स्थानों पर आने वाले श्रद्धालुओं की जांच थर्मल स्कैनर से की जाएगी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट ऊना: कोरोना वायरस के चलते चैत्र नवरात्र मेलों के लिए चिंतपूर्णी तथा अन्य धार्मिक स्थानों पर आने वाले श्रद्धालुओं की जांच थर्मल स्कैनर से की जाएगी। यह बात उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने सोमवार को एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। इस बैठक में एडीसी अरिंदम चौधरी, एसडीएम डा. सुरेश
 | 
चिंतपूर्णी तथा अन्य धार्मिक स्थानों पर आने वाले श्रद्धालुओं की जांच थर्मल स्कैनर से की जाएगी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

ऊना: कोरोना वायरस के चलते चैत्र नवरात्र मेलों के लिए चिंतपूर्णी तथा अन्य धार्मिक स्थानों पर आने वाले श्रद्धालुओं की जांच थर्मल स्कैनर से की जाएगी। यह बात उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने सोमवार को एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।
इस बैठक में एडीसी अरिंदम चौधरी, एसडीएम डा. सुरेश जसवाल, तोरुल एस रवीश, विशाल शर्मा, विनय मोदी, सीएमओ डा. रमण कुमार शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में डीसी ने कहा कि थर्मल स्कैनर की खरीद जल्द से जल्द की जा रही है ताकि मेले शुरू होने से पहले ही श्रद्धालुओं की जांच की जा सके। जांच के दौरान अगर किसी व्यक्ति में कोरोना के संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे भीड़ से अलग किया जाएगा, ताकि दूसरों के संक्रमित होने की आशंका को कम किया जा सके। जिला में क्षेत्रीय अस्पताल ऊना तथा सभी सिविल अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं और क्वारंटीन सैंटर को चिन्हित किया जा रहा है।
सभी आइसोलेशन वार्ड तथा क्वारंटीन सैंटर में स्वास्थ्य विभाग की ओर से जरूरी इंतजाम किए जा रहे हैं। उपायुक्त ने कहा कि हालात को देखते हुए प्राइवेट लंगर लगाने तथा सरायों में ठहरने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। नियमित रूप से चलने वाले लंगर पर बैन नहीं है लेकिन उन्हें स्वच्छता पर जारी सरकार की गाइडलाइन्स के अनुसार काम करना होगा। पुलिस विभाग की ओर से जिला के सभी एसएचओ को होटलों में आने वाले विदेशियों के बारे में जानकारी एकत्र करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा जिम प्रबंधकों से भी जानकारी सांझा करने को कहा गया है, विशेष तौर पर विदेश से आए लोगों के बारे में।
स्वास्थ्य विभाग ने जरूरी इंतजाम किए
डीसी ने कहा कि कोरोना से घबराने की कोई जरूरत नहीं है लेकिन सभी को व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान देने की आवश्यकता है। मास्क व सैनेटाइजर के स्थान पर साबुन से अच्छी तरह से हाथ धोने से कोरोना के संक्रमण का खतरा कम होता है। इसी दृष्टिगत श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए चिंतपूर्णी मंदिर में हाथ धोने के लिए वैकल्पिक इंतजाम किए जाएंगे। उपायुक्त ने कहा कि चिंतपूर्णी मंदिर के साथ-साथ जिला के सभी प्रमुख मंदिरों, गुरूद्वारों व अन्य धार्मिक स्थानों पर स्वास्थ्य विभाग की ओर से हेल्प डेस्क लगाए जाएंगे। क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में एक विशेष हैल्प डेस्क स्थापित किया गए है, जहां पर कोरोना के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है। कोरोना के संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेकर मैडीकल कॉलेज टांडा भेजे जाएंगे।
जिला में 21 व्यक्ति निगरानी में
बैठक में सीएमओ ऊना डा. रमण कुमार शर्मा ने कहा कि कोरोना प्रभावित देशों की यात्र कर लौटे 21 लोग अभी भी स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में हैं। उन्हें 28 दिन तक घर के अंदर ही रहने के निर्देश दिए गए हैं और नियमित तौर पर उनकी जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के संदर्भ में जिला व खंड स्तर पर आशा वर्कर्स को ट्रेनिंग प्रदान कर दी है। इसके साथ-साथ आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं को भी कोरोना के प्रचार प्रसार में इस्तेमाल किया जाएगा और उन्हें इसकी ट्रेनिंग भी दी जाएगी।