खुले चारधाम यात्रा के द्वार, फिलहाल सीमित संख्या में ही यात्री जा सकेंगे

रश्मि प्रभा की रिपोर्ट उत्तराखंड में चारधाम यात्रा के द्वार खोल दिए गए हैं. इसका फैसला उत्तराखंड सरकार और देवस्थानम बोर्ड ने लिया. हालांकि अभी यात्रा में भीड़ नहीं जुटेगी क्योंकि फिलहाल सीमित संख्या में ही यात्री जा सकेंगे. नए नियम के मुताबिक, बद्रीनाथ में 1200, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में
 | 
खुले चारधाम यात्रा के द्वार, फिलहाल सीमित संख्या में ही यात्री जा सकेंगे

रश्मि प्रभा की रिपोर्ट

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा के द्वार खोल दिए गए हैं. इसका फैसला उत्तराखंड सरकार और देवस्थानम बोर्ड ने लिया. हालांकि अभी यात्रा में भीड़ नहीं जुटेगी क्योंकि फिलहाल सीमित संख्या में ही यात्री जा सकेंगे. नए नियम के मुताबिक, बद्रीनाथ में 1200, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 लोग ही एक दिन में दर्शन कर सकेंगे.

दर्शन के समय के बारे में बताया गया है कि चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु सुबह सात से शाम के सात तक दर्शन कर पाएंगे. इसके साथ ही नए नियम के मुताबिक, फिलहाल 30 जून तक स्थानीय लोग ही चारधाम यात्रा में दर्शन कर पाएंगे. यात्रियों को अपने ठहरने का इंतजाम खुद करना होगा. दर्शन में लोगों की भीड़ न लगे, इसके लिए टोकन सिस्टम शुरू किया जाएगा. लोगों को टोकन फ्री दिए जाएंगे.

हालांकि देवस्थानम बोर्ड और सरकार के इस फैसले का स्थानीय मंदिर समिति के लोगों ने विरोध किया है. मंदिर समिति का कहना है कि बोर्ड के फैसले को मानने के लिए मंदिर प्रशासन बाध्य नहीं है. उनका कहना है कि चारधाम यात्रा में पूर्व की भांति ही पूजा-पाठ होगा. समिति ने यह भी कहा है कि बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को पूजा कराने की बाध्यता नहीं है.

दूसरी ओर धार्मिक संगठन के लोग भी यात्रा शुरू करने के विरोध में हैं. उनका कहना है कि अगर चारधाम यात्रा शुरू हुई तो संक्रमण फैल सकता है. कोरोना से अभी बचने की जरूरत है. तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि कोरोना संक्रमण कम हो तो ऐसी यात्राओं की शुरुआत की जाए. शुरुआती नियम के मुताबिक धार्मिक यात्रा में बेहद कम लोग मौजूद रहेंगे. बाद में यात्रियों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ाई जाएगी.