कोरोना की तैयारियों पर हिमाचल का मास्टर प्लान बेस्ट

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला – कोरोना की तैयारियों पर हिमाचल का मास्टर प्लान बेस्ट बताया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय से प्रदेश पहुंची विशेषज्ञ प्रीती नाथ ने प्रदेश स्वास्थ्य विभाग की कोरोना की तैयारियों का जायजा लिया, जिसमें अतिरिक्त मुख्य सचिव के साथ भी बैठक आयोजित की गई है, जिसमें प्रदेश की तैयारियों की पूरी रिपोर्ट
 | 

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला  – कोरोना की तैयारियों पर हिमाचल का मास्टर प्लान बेस्ट बताया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय से प्रदेश पहुंची विशेषज्ञ प्रीती नाथ ने प्रदेश स्वास्थ्य विभाग की कोरोना की तैयारियों का जायजा लिया, जिसमें अतिरिक्त मुख्य सचिव के साथ भी बैठक आयोजित की गई है, जिसमें प्रदेश की तैयारियों की पूरी रिपोर्ट का विश्लेषण किया गया है। वहीं, इस रिपोर्ट को भारत सरकार को सौंपा जाना है। वहीं, इस बाबत मंगलवार को केंद्र से आई विशेषज्ञ ने आईजीएमसी का निरीक्षण किया है, जिसमें अस्पताल के कार्यों की सराहना की गई है। विभाग की किट की व्यवस्था भी जांची गई, जिसमें उसे बेहतर बताया गया है। प्रदेश सरकार को ये भी निर्देश जारी किए गए हैं कि भारत सरकार की सभी प्रकार की गाइडलाइन का पालन किया जाए। प्रीती नाथ ने कहा कि प्रदेश की तैयारियों का मास्टर प्लान अन्य जिलों को बताया जाएगा। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने आईडीएसपी यूनिट्स को भी सतर्क रहने के लिए कहा है। प्रतिदिन हिमाचल आने वाले यात्रियों का अपडेट रखा जाएगा, जिसमें उनका हैल्थ अपडेट होगा। वहीं, हैल्थ बुलेटिन के मुताबिक प्रदेश में चीन से आए 181 लोगों का अंडर ऑब्जर्वेशन सर्किल पूरा हो गया है। यह 28 दिन का सर्किल है, जो चीन से हिमाचल पहुंचे 181 लोगों ने पूरा कर दिया है। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने यह आंकड़ा भी हैल्थ बुलेटिन के तहत जारी किया है, जिसमें प्रदेश से 18 चीनी वापस चीन पहुंच गए हैं। इसमें शिमला और कांगड़ा में घूमने आए चाइनीज शामिल हैं। गौर हो कि कोरोना वायरस पर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग अब 214 लोगों पर नजर रख रहा है। सभी पंजीकृत लोगों में देखा गया है कि इन्हें न तो कोई बुखार है और न ही खांसी, उनकी हालत बिलकुल ठीक है।

हिमाचल में सामने आया पहला संदिग्ध बिलासपुर का युवक आईजीएमसी में भर्ती

बिलासपुर, शिमला – हिमाचल में कोरोना वायरस को लेकर पहला एक संदिग्ध मामला प्रकाश में आया हैं। यह साउथ कोरिया से हिमाचल आया है। बताया जा रहा है कि साउथ कोरिया में काम करने वाले इस शख्स को सप्ताह से बुखार था, जिसकी शिकायत उसने प्रदेश के हेल्प नंबर 104 पर की। बिलासपुर के रहने वाले इस संदिग्ध को स्पेशल एंबुलेंस में आईजीएमसी भेजा गया है। लिहाजा आईजीएमसी शिमला में कोरोना वायरस का पहला संदिग्ध मरीज भर्ती कर दिया गया है। मरीज कोरोना वायरस पीडि़त है या नहीं इसका पता लगाने के लिए डॉक्टरों ने मरीज के ब्लड सैंपल को पुणे की विषाणु विज्ञान लैब में जांच के लिए भेज दिया है।