इस बार कुछ अलग अंदाज में पेशकश होगी रामलीला की

प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट फरीदाबाद: कोरोनाकाल में इस बार रामलीला का स्वरूप भी बदला हुआ नजर आएगा। रामलीला कमेटी की तरफ से न सिर्फ सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा बल्कि कलाकारों के चेहरे पर भी मास्क लगा हुआ दिखाई देगा। वहीं शहर की कई रामलीला कमेटी ने कोरोना की वजह से इस बार अपना मंचन
 | 
इस बार कुछ अलग अंदाज में पेशकश होगी रामलीला की

प्रवीन गुलाटी की रिपोर्ट

फरीदाबाद: कोरोनाकाल में इस बार रामलीला का स्वरूप भी बदला हुआ नजर आएगा। रामलीला कमेटी की तरफ से न सिर्फ सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा बल्कि कलाकारों के चेहरे पर भी मास्क लगा हुआ दिखाई देगा। वहीं शहर की कई रामलीला कमेटी ने कोरोना की वजह से इस बार अपना मंचन भी रद्द कर दिया है।

कमेटी संचालकों का कहना है कि कोरोना की वजह से उन्हें काफी व्यापक तैयारियां करनी पड़ेगी। जिसके लिए खर्च काफी अधिक होगा। वहीं लॉकडाउन की वजह से मंहगाई का भी असर है। इसलिए इस बार रामलीला का मंचन रद्द करने का फैसला किया गया है। वहीं जो रामलीला कमेटी आयोजन करवाएंगी। उनके कलाकारों ने रिहर्सल भी शुरू कर दी है। शहर में हर साल 50 से अधिक जगहों पर रामलीला का मंचन किया जाता है। कही-कही पर एलईडी लगाकर भी रामलीला दिखाई जाती है। शहर की सबसे पुरानी रामलीला में शामिल श्रद्धा रामलीला कमेटी ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। रामलीला के निर्देशक अनिल चावला ने बताया कि उनके कलाकारों ने रिहर्सल शुरू कर दी है। क्योंकि रामलीला मंचन के लिए अब कम समय रह गया है।

उन्होंने बताया कि रामलीला कमेटी की जगह इस बार बदली गई है। रामलीला सेक्टर-14 स्थित डीएवी स्कूल के सभागार में कराई जाएगी। वहीं पहले उनकी रामलीला में करीबन 2 से 3 हजार लोग देखने के लिए आते थे। लेकिन इस बार केवल 200 लोगों के बैठने की ही व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा प्रयास किया जाएगा कि लोगों के बीच में सोशल डिस्टेंसिंग भी बनी रही। वहीं इस बार रामलीला का लाइव प्रसारण भी किया जाएगा। इसके लिए चैनल से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है। ताकि लोग घर बैठे भी रामलीला का आनंद उठा सके।