असम से ब्याह लाया और दो बच्चे भी हुए फिर क्या हुआ जो सड़क पर छोड़ भाग लिया ?

ईसम सिंह की रिपोर्ट पानीपत। बबैल गांव का रहने वाला युवक छह साल पहले असम की रहने वाली महिला से शादी करके ले आया। दो बेटी हो जाने के बाद पति सात दिन पहले महिला को बबैल रोड पर छोड़कर भाग गया। तीन दिन पहले जेठ ने थाना सेक्टर- 13/17 में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज
 | 
असम से ब्याह लाया और दो बच्चे भी हुए फिर क्या हुआ जो सड़क पर छोड़ भाग लिया ?

ईसम सिंह की रिपोर्ट

पानीपत। बबैल गांव का रहने वाला युवक छह साल पहले असम की रहने वाली महिला से शादी करके ले आया। दो बेटी हो जाने के बाद पति सात दिन पहले महिला को बबैल रोड पर छोड़कर भाग गया। तीन दिन पहले जेठ ने थाना सेक्टर- 13/17 में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई।

सोमवार को वह महिला भटकते हुए महिला थाने पति के खिलाफ शिकायत लेकर पहुंच गई। महिला का आरोप है कि पुलिस ने जेठ को बुलवा लिया, लेकिन उसकी एक नहीं सुनी और उल्टा उसे ही धमकाकर भगा दिया। मंगलवार को महिला ने नारी तू नारायणी उत्थान समिति की प्रधान सविता आर्य से मदद मांगी। प्रधान ने महिला को सखी केंद्र में पहुंचवा दिया है। पीड़िता गीता ने यह भी आरोप लगाया कि पति विजेंद्र उसे 40 हजार रुपए में खरीदकर लाया था। फिर शादी कर ली।

उसके बाद आए दिन मारपीट करता था। उसे वापस असम जाने के लिए भी दबाव बना रहा था। 17 जून की दोपहर को वह उसे गांव के बाहर ले आया और वहां छोड़कर भाग गया। सोमवार को वह किसी तरह महिला थाने पहुंची, लेकिन पुलिस ने न तो मदद की और न ही थाना सेक्टर- 13/17 पुलिस को इसकी सूचना दी। शिकायत पर जेठ को पुलिस ने बुला लिया। जेठ ने पुलिस के सामने उसे उल्टा सीधा बोला। पुलिस ने भी उसी का साथ दिया। उसे थाने से भगा दिया। जबकि वह पुलिस के पास पति की शिकायत करने गई थी। पति ने बेटियों को भी उससे छीन लिया है। वह उसे वापस दिलवाई जाएं।

न्याय दिलवाएंगे: सविता

मंगलवार को पीड़िता सविता आर्या से मिलीं। सविता का कहना है कि वह उसे न्याय दिलवाकर रहेंगी। वहीं, महिला थाना प्रभारी किरन का कहना है कि महिला द्वारा लगाया गया आरोप गलत है। पीड़िता ने उनसे मुलाकात नहीं की है। अगर वह उनसे मुलाकात करती है तो वह जरूर उसकी मदद करेंगी। आरोपी पति के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।