अब पूरा हिमाचल लाक डाउन करने की तैयारी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट शिमला – कोरोना वायरस से निपटने के लिए समूचे हिमाचल को लॉकडाउन करने की तैयारी हो गई है। पहले फैसले में रविवार को सिर्फ कांगड़ा ही लॉकडाउन किया गया है, पर सोमवार को बाकी प्रदेश पर भी तालाबंदी कर दी जाएगी। इस दौरान केवल आवश्यक सेवाओं की बहाली ही यथावत रहेगी। इससे
 | 
अब पूरा हिमाचल लाक डाउन करने की तैयारी

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

शिमला – कोरोना वायरस से निपटने के लिए समूचे हिमाचल को लॉकडाउन करने की तैयारी हो गई है। पहले फैसले में रविवार को सिर्फ कांगड़ा ही लॉकडाउन किया गया है, पर सोमवार को बाकी प्रदेश पर भी तालाबंदी कर दी जाएगी। इस दौरान केवल आवश्यक सेवाओं की बहाली ही यथावत रहेगी। इससे पहले हिमाचल प्रदेश का राजस्व जिला कांगड़ा पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया है। कांगड़ा जिला में कोरोना के दो मामले पॉजिटिव आने के बाद सरकार ने यह फैसला लिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सुझाव दिया था कि देश के उन 75 जिलों को लॉकडाउन किया जाना चाहिए, जिनमें पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इसमें हिमाचल का सबसे बड़ा कांगड़ा जिला भी शामिल है। प्रदेश सरकार ने स्थिति की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया है। मुख्यमंत्री की अनुमति से मुख्य सचिव अनिल खाची के निर्देशों पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान की ओर से जारी आदेशों के अनुसार राजस्व जिला कांगड़ा में सभी अंतरराज्यीय व राज्य के भीतर चलने वाले पब्लिक ट्रांसपोर्ट को अगले आदेशों तक बंद कर दिया गया है। इसमें निजी पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी शामिल है। यहां पर कमर्शियल एयरक्राफ्ट और रेल सुविधाओं को भी बंद करने के आदेश दिए गए हैं। कांगड़ा जिला में रहने वाले लोग अपने निजी वाहनों से तभी आवाजाही कर सकते हैं, जब उन्हें अस्पताल जाना हो या फिर किसी दूसरी आधारभूत जरूरत के लिए जरूरी जाना हो। जरूरी वस्तुओं की ढुलाई के लिए ही गुड्ज कैरियर को आवाजाही की इजाजत होगी। इन आदेशों के अनुसार इस जिला में सभी दुकानें, फैक्टरियां, वर्कशॉप, गोदाम  बंद रखने को कहा गया है। केवल ग्रॉसरी बेचने वाले स्टोर, दूध, ब्रेड, फल, सब्जियों, मीट, मछली, व अन्य कच्ची खाद्य सामग्री बेचले वाली दुकानों को खुला रखने की इजाजत होगी। इनकी ढुलाई का काम भी हो सकेगा। इनके अलावा अस्पताल, दवा दुकानें, ऑप्टिकल स्टोर, फार्मास्यूटिकल एवं साबुन बनाने वाले यूनिट व इससे जुड़ा ढुलाई का काम जारी रह सकता है। पेट्रोल पंप, एलपीजी गैस, तेल एजेंसियां व उनके गोदाम के साथ उनकी परिवहन सुविधा चालू रहेंगी। प्रोडक्शन व मेन्यूफेक्चरिंग यूनिट्स को खुला रखने के लिए जिलाधीश की अनुमति जरूरी होगी। सभी तरह के मीडिया को भी छूट रहेगी। सरकारी आदेशों के अनुसार विदेश से नौ मार्च के बाद यहां आए लोगों को सेल्फ क्वारंटाइन में रहकर सख्ती से इन आदेशों की पालना सुनिश्चित बनानी होगी। इनके बारे में जिला सर्विलांस अधिकारी या फिर 104 नंबर पर सूचना देनी जरूरी होगी। सरकार ने सभी लोगों से आग्रह किया है कि वे बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें, वरना खुद को घर के भीतर सुरक्षित रखें। लोगों को सोशल डिस्टेंस को लेकर जारी की गई हिदायतों की अनुपालना करने को कहा गया है। सभी स्थानों पर भीड़भाड़ नहीं होने देने की बात कही गई है। सुविधाएं देने के लिए जिन दुकानों या यूनिट्स को खोलने के आदेश दिए गए हैं, उनको भी सोशल डिस्टेंस बराबर बनाए रखने की हिदायत सरकार ने दी है। जिला उपायुक्त राकेश प्रजापति ने भी इसकी पुष्टि की है।

लॉकडाउन का मतलब

*  बहुत ज्यादा जरूरी होने पर ही घरों से निकल सकेंगे लोग

*  जिला में सभी तरह के पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर रहेगी रोक

*  अस्पताल या जरूरी जगहों पर ही अपनी गाड़ी से जा सकेंगे

*  जिला में सभी दुकानें, गोदाम फैक्टरियां, वर्कशॉप बंद रहेंगी

*  केवल ग्रॉसरी बेचने वाले स्टोर और दुकानों ही खुली रहेंगी

इनकी छुट्टियां रद्द

जरूरी सेवाओं से जुड़े सरकारी कार्यालयों में किसी को भी अवकाश नहीं होगा और जो कर्मचारी अवकाश पर हैं, उनके अवकाश को रद्द कर दिया गया है।

खुले रहेंगे ये दफ्तर

कानून व्यवस्था से जुडे़ कार्यालय, पुलिस, सेना व अर्द्धसैनिक बल कार्यालय, स्वास्थ्य कार्यालय, ट्रेजरी, शहरी स्थानीय निकाय व ग्रामीण विकास कार्यालय, अग्निशमन कार्यालय, बिजली, सस्ते राशन के डिपू, पानी व नगर निगम के कार्यालय, बैंक, एटीएम, प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक के साथ सोशल मीडिया कार्यालय, टेलिकॉम व इंटर सेवा प्रदाता कार्यालय, पोस्टल, सप्लाई चेन व इससे जुड़ी सेवाओं के कार्यालय खुले रहेंगे। इसके अलावा जिलाधीश जिसे जरूरी समझें, उस कार्यालय को खोलने की इजाजत दे सकते हैं।

जनता कफ्र्यू पर सूना-सूना रहा पूरा हिमाचल

शिमला – रविवार को कुछ यूं सूना-सूना नजर आया शिमला का बाजार। कोरोना से बचाव के लिए प्रधानमंत्री द्वारा किए गए जनता कफ्र्यू के आह्वान का असर पूरे हिमाचल में कुछ ऐसा ही दिखा और दुकानें व सड़कें सुनसान नजर आईं

प्रदेश में 24 कोरोना नेगेटिव, सात की रिपोर्ट आनी बाकी

शिमला – कोरोना को लेकर प्रदेश के लिए रविवार को भी राहत की खबर रही और 31 संदिग्ध मामलों में से 24 केस नेगेटिव आए, जबकि सात की रिपोर्ट आनी बाकी है। स्वास्थ्य विभाग की बुलेटिन रिपोर्ट के मुताबिक रविवार को 31 संदिग्धों की जांच की गई है, जिसमें 24 सैंपल नेगेटिव आ गए हैं और सात की रिपोर्ट का इंतजार है। अभी कुल मिलाकर टांडा में ही दो पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए हैं। इनकी हालत भी स्थिर है। इसके साथ ही हिमाचल के लिए यह भी सुखद आंकड़े हैं कि हिमाचल से 111 विदेशी बाहर जा चुके हैं, जिसमें हमीरपुर से चार, कांगड़ा से 95, मंडी से 11, सिरमौर से एक विदेशी शामिल है। वहीं, जिन्होंने 28 दिन का अंडर ऑब्जर्वेशन सर्किल पूरा कर लिया है, उनमें बिलासपुर से 13, चंबा से नौ, हमीरपुर से 17, कांगडा़ से 21, कुल्लू से10, मंडी से 23, शिमला से 73, सिरमौर से 16, सोलन से 19 और ऊना से 25 लोग शामिल हैं।

सीएम ने ओकओवर में बजाई ताली

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी जनता कर्फ्यू के समर्थन में पूरा दिन ओकओवर में रहे। यहां कोई आने-जाने वाला भी नहीं था। उन्होंने भी शाम को अन्य के साथ जरूरी सेवाएं देने वाले लोगों की हौसला अफजाई के लिए घंटी बजाई।

राज्यपाल ने राजभवन में बजाई घंटी

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अह्वान पर राजभवन में स्वास्थ्य कर्मियों व अन्य के लिए जो कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे हैं, के उत्साह को बढ़ाने के लिए राजभवन में घंटी बजाकर धन्यवाद दिया।