भारत में संपूर्ण नहीं कस्टमाइज लॉकडाउन जानिए क्या है कस्टमाइज लॉकडाउन

भारत में कस्टमाइज लॉकडाउन
 | 
Customized lockdown
 भारत में कस्टमाइज लॉकडाउन जानिए क्या है
कोरोना महामारी को रोकने के लिए एक बार फिर केंद्र सरकार ने पूरे देश में एक समान लॉकडाउन लगाने की खबरों का खंडन कर दिया है। इसके बजाए कस्टमाइज्ड लॉकडाउन (Customised Lockdown) लगाने की बात कही जा रही है। पर अभी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन Customised Lockdown के जरिए सरकार की कोशिश है कि जहां संक्रमण ज्यादा है, वहां पाबंदियां लगाई जाए, बाकी स्थानों पर लोगों को छूट दी जाए। Customised Lockdown का फैसला भी राज्य सरकारें ही करेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते दिनों इसके संकेत दिए थे। राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने कहा था, मैं राज्यों से अनुरोध करूंगा कि वो लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के रूप में ही इस्तेमाल करें। लॉकडाउन से बचने की भरपूर कोशिश करनी है। माइक्रो कन्टेनमेंट जोन पर ही ध्यान केंद्रित करना है।

अब माइक्रो कन्टेनमेंट तर्ज पर ही Customised Lockdown का इस्तेमाल किया जा सकता है। जहां जितना अधिक संक्रमण, वहां उतनी अधिक पाबंदियां। दूसरे शब्दों में जहां कोरोना का असर नहीं है, उन स्थानों में जनजीवन सामान्य रहेगा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह फैसला केंद्र सरकार ने राज्यों और स्थानीय प्रशासन पर छोड़ दिया है। यानी राज्य सरकार ही तय करेगी कि उनके यहां किन जिलों या शहरों में पाबंदियां रहेंगी। Customised Lockdown के तहत जरूरी नहीं कि पूरे शहर में सख्ती बरती जाए। शहर के जिन इलाकों में कोरोना मरीज अधिक हैं, वहां पाबंदियां रहेंगी, बाकी शहर सामान्य रूप से चल सकता है।