खुद के साथ घर को बैक्टीरिया वायरस से बचाव के लिए साफ़ रखना भी है जरूरी, जान लें जरुरी टिप्स

 | 
खुद के साथ घर को बैक्टीरिया वायरस से बचाव के लिए साफ़ रखना भी है जरूरी, जान लें जरुरी टिप्स

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर का कहर जारी है। इसके चलते संक्रमितों की संख्या में रोजाना इजाफा हो रहा है। इस वायरस को शिकस्त देने के लिए अस्पतालों में मरीजों का इलाज युद्धस्तर पर जारी है। साथ ही कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए देश के कई राज्यों में लॉकडाउन और नाईट कर्फ्यू का सहारा लिया जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मास्क शारीरिक दूरी और स्वच्छता सुरक्षा कवच है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी कोरोना के नए स्ट्रेन से बचाव के लिए एक नई गाइडलाइन जारी की है, जिसमें हाथों की साफ-सफाई के स्टेप्स बताए गए हैं। इससे पहले एक गाइडलाइन में लोगों को घर पर मास्क लगाने की सलाह दी गई थी। विशेषज्ञों की माने तो पहली लहर की अपेक्षा में दूसरी लहर अधिक खतरनाक साबित हो रही है। आइए जानते हैं

1. हाथों को पानी से धोएं

सबसे पहले अपने हाथों को कम से कम 20 सेकेंड के लिए हर तरफ से धोएं। इस दौरान हाथों को रगड़ कर भी धो सकते हैं। एक चीज का ध्यान रखें कि हाथ धोने से पहले अपने चेहरे को न छुएं।

2. हाथों में साबुन या लिक्विड लें

अब अपनी हथेली के अनुसार साबुन या लिक्विड लें। अगर हथेली छोटी है तो कम मात्रा में और बड़ी रहने पर अधिक मात्रा में हैंड-सैनिटाइज़र लें। इसके बाद अंगूठे की दिशा में हाथों को मूव कर सफाई करें।

3. 20 सेकेंड तक हाथ धोएं

स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी गाइडलाइन में 20 सेकेंड तक हाथों को धोने की सलाह दी गई है। इसके लिए अपने हाथों को दोनों तरफ से 20 सेकेंड तक धोएं।

4. ऐसे धोएं अपने हाथ

अपने एक हथेली से दूसरी हथेली को रगड़ते हुए साफ करें। इसके बाद बहते पानी में दोनों हाथों को अच्छी तरीके से धोएं। आप चाहे तो 10 सेकेंड तक हाथों को साफ पानी से धोएं।

5. अपने हाथों को सूखाएं

इसके बाद साफ कपड़े (तौलिए) अथवा एयर ब्लोअर से अपने हाथों को सूखा लें। अगर हाथ धोने के बाद आप हाथों को नहीं  सुखाते हैं तो हैंड-सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करना बेकार है। वहीं, जब तक हाथ पूरी तरह से सुख न जाएं, तब तक किसी वस्तु को न छूएं।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।