Home राष्ट्रीय संपादकीय

संपादकीय

“टीका” काफी नहीं “कोरोना” के लिए

अनिल अनूप कोरोना टीके का बहुत शोर मचा है। अमरीकी कंपनियों-मॉडर्ना और फाइजर-ने तो दावे किए हैं कि उनके टीके (वैक्सीन) 94-95 फीसदी कामयाब रहे...

कहर का असर तारी……

अनिल अनूप अभी तो सर्दियों की ठंड शुरू हुई है। देश में कई स्थानों पर तापमान एक डिग्री सेल्सियस से भी कम हो गया है।...

नशीली “कामेडी” नशेड़ी “कामेडियन”

अनिल अनूप बालीवुड में एक बार फिर तहलका मचा है। फिल्मों के खूबसूरत चेहरे बार-बार आईने में झांक कर देख रहे होंगे कि क्या वे...

पाक को दुनिया में बेनकाब करे भारत

अनिल अनूप जम्मू कश्मीर एक बड़े आतंकी हमले से बच गया। खुफिया लीड कारगर साबित हुई और नगरोटा में 4 आतंकियों को ढेर कर दिया...

‘स्वयंवर’ की परंपरा भूल गए हैं क्या?

अनिल अनूप लव जेहाद की कोई परिभाषा नहीं है। भारत सरकार के गृह राज्यमंत्री जी.किशन रेड्डी ने संसद में यह जवाब दिया था। ‘लव जेहाद’...

अप्रासंगिक होता कांग्रेस का “विकल्प”

अनिल अनूप कांग्रेस के भीतर असंतोष और सवालों का यह नया अध्याय है। कांग्रेस के आंतरिक मुद्दों को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता, क्योंकि...

“सत्ता” के “घोड़े” पर सवार “नितीश” की नई “दौर’

अनिल अनूप आज महान कथाकार एवं संपादक धर्मवीर भारती के कालजयी उपन्यास ‘सूरज का सातवां घोड़ा’ की याद आ रही है। हालांकि उपन्यास और बिहार...

“बारुदी” दिवाली

अनिल अनूप इस बार दिवाली ‘बारूदी’ रही। छोटी दिवाली और मुख्य पर्व पर भी पाकिस्तान अपनी ना’पाक हरकतों से बाज नहीं आया और सरहद पार...