Otherstates

पहली से आठवीं तक नहीं खुलेंगी निजी स्कूल, पालकों ने बच्चों को भेजने से किया इनकार

रेशम वर्मा कि रिपोर्ट 

रायपुर-प्रदेश में पहली से आठवीं कक्षा तक के निजी स्कूल फिलहाल बंद ही रहेंगे। पालकों से सहमति न मिलने के कारण निजी स्कूलों ने यह फैसला लिया है। फिलहाल अगस्त तक कक्षाएं संचालित नहीं होंगी। अगस्त माह के अंत में परस्थितियों को देखते हुए आगे के लिए फैसला लिया जाएगा। शासन द्वारा स्कूल खोलने की अनुमति दिए जाने के साथ ही निजी स्कूलों ने पालकों को अनुमति के लिए पत्र लिखा था। छोटी कक्षाओं में अध्ययनरत 90 फीसदी से अधिक छात्रों के पालकों ने इसके लिए अनुमति नहीं दी है। नियमत: इन छात्रों के लिए स्कूलों को ऑनलाइन कक्षाएं जारी रखनी होंगी। इसलिए शेष 10 फीसदी छात्रों के लिए शाला संचालित करने के स्थान पर सभी के लिए ऑनलाइन कक्षाएं ही खोलने का निर्णय लिया है।

वहीं नवमी से बारहवीं कक्षा को लेकर अब भी असमंजस बना हुआ है। बड़ी कक्षाओं के छात्रों को आधे पालक स्कूल भेजने के लिए सहमत हैं, जबकि आधे असहमत हैं। इस कारण निजी स्कूल प्रबंधन यह फैसला नहीं ले पा रहे हैं कि स्कूल खोले जाएं अथवा नहीं। हालांकि 10वीं और 12वीं कक्षाएं खोलने की तैयारी निजी स्कूलों ने कर ली है। इसके उलट सरकारी स्कूल 2 अगस्त से खोल दिए जाएंगे। छात्रों तक सूचनाएं पहुंचाने से लेकर साफ-सफाई तथा अन्य तैयारियां भी की जा रही हैं। कुछ ही जगहों से मिली सहमति हालांकि कुछ छोटे जिलों तथा कस्बों में जहां विशेष सुविधाएं नहीं हैं, वहां पालकों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजने की अनुमति प्रदान कर दी है। अनुमति देने वाले पालकों की संख्या 50 फीसदी से अधिक है, इसलिए छोटे कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों के कई निजी स्कूल 2 अगस्त से खुल जाएंगे। इनकी संख्या अपेक्षाकृत बेहद कम है।

इसलिए भी फैसला डीजल की कीमत बढ़ने के कारण बसों का किराया भी बढ़ गया है। स्कूल खोलने की स्थिति में बस की लागत भी बढ़ेगी। घर से ही ऑनलाइन कक्षाएं लेने के कारण अधिकतर स्कूल अपने शिक्षकों और स्टाफ को 50 से 70 फीसदी वेतन ही दे रहे हैं। स्कूल खोले जाने की स्थिति में शिक्षकों को पूरा वेतन देना पड़ेगा। कई तरह के दबाव के बाद भी पालक सिर्फ ट्यूशन फीस ही दे रहे हैं। आर्थिक नुकसान से बचने के लिए भी प्रबंधन अभी स्कूल खोलने के मूड में नहीं हैं। 80 प्रतिशत से अधिक छात्रों के पालकों के सहमत होने के बाद ही कक्षाएं ऑफलाइन मोड में प्रारंभ की जाएंगी। बोर्ड कक्षाएं लगेंगी पालकों की अनुमति के बगैर छोटी कक्षाएं नहीं लगा सकते। बोर्ड कक्षाएं कॅरियर के लिहाज से महत्वपूर्ण हैं, इसलिए 2 अगस्त से कक्षाएं प्रारंभ करेंगे।

Related Articles

Back to top button