Punjab

अश्लील गाने चलाने वाले बसों का किया गया चालान

राकेश की रिपोर्ट

चंडीगढ़।  पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की हिदायतों पर पंजाब परिवहन विभाग ने राज्य भर में चल रही बसों में नशों और हथियारों को उत्साहित करने वाले वीडियो/ऑडियो क्लिप चलाने पर रोक लगाने के लिए पाँच दिवसीय विशेष मुहिम चलाई है। मुहिम के दौरान 509 बसों की जांच की गई, जिनमें से 212 बसें ऐसे नियमों का उल्लंघन करती पाई गईं और इनके चालान काटे गए।मुख्यमंत्री कार्यालय के प्रवक्ता ने बताया कि इस सम्बन्ध में 7 से 11 फरवरी, 2020 तक विशेष मुहिम चलाई गई थी जिसके दौरान सभी क्षेत्रीय परिवहन अथॉरिटियों (आर.टी.एज़) द्वारा ट्रांसपोटरों के साथ मीटिंगें करके उनको बसों में असभ्य/अश्लील गाने बजाने से नौजवानों के मन पर पड़ते बुरे प्रभावों संबंधी अवगत करवाया गया। यह चीजें नौजवानों को राह से भटका कर ऐसे असभ्य/अश्लील गानों के द्वारा फैलाई जा रही हिंसा और बंदूक सभ्याचार की तरफ जाने के लिए उत्साहित करती हैं।
टीमों ने ड्राईवारों और कंडक्टरों को ऐसी ग़ैर-सेहतमंद कार्यवाहियों से दूर रहने के लिए जागरूक करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया जो हमारे गौरवशाली संस्कृति पर कलंक लगाती हैं।प्रवक्ता ने आगे बताया कि ऐसी मुहिमें भविष्य में भी ज़ोरदार ढंग से चलाईं जाएंगी और एस.डी.एमज़ और आर.टी.ए. के सचिव को पहले ही इस मुद्दे को अपनी रोज़मर्रा की चैकिंग के दौरान प्राथमिकता के आधार पर हल करने के लिए विशेष निर्देश जारी किये गए हैं। उनको इस सम्बन्धी मासिक रिपोर्ट भेजने के लिए भी कहा गया। गौरतलब है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाबी गानों में हिंसा और हथियारों के प्रचार के बढ़ रहे रुझान पर गंभीर चिंता ज़ाहिर की थी। अपनी सरकार की दृढ़ वचनबद्धता को दोहराते हुए मुख्यमंत्री ने परिवहन विभाग को बसों में अश्लील/असभ्य गाने चलाने के विरुद्ध अपने यत्नों को और तेज़ करने के निर्देश दिए हैं क्योंकि यह न सिफऱ् हमारे गौरवशाली संस्कृति के लिए घातक हैं, बल्कि ड्राईवर का ध्यान भी भटकाते हैं जिस कारण कोई असुखद घटना घट सकती है और लोगों की जि़न्दगियों के लिए ख़तरा बन सकता है।
जि़क्रयोग्य है कि पंजाब पुलिस ने हाल ही में सोशल मीडिया पर अपलोड की गई एक वीडियो क्लिप के द्वारा हिंसा के प्रचार के लिए पंजाबी गायक शुभदीप सिंह सिद्धू (सिद्धू मूसे वाला) और मनकीरत औलख के खि़लाफ़ केस दर्ज किया है। इसी तरह नौजवानों को हथियार उठाने और शान्ति और सद्भावना को भंग करने के लिए उकसाने वाली फिल्मों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बदनाम गैंगस्टर सुक्खा काहलवां की जि़ंदगी पर आधारित फि़ल्म ‘शूटर’ पर भी पाबंदी लगाने के हुक्म दिए थे। इसके बाद पंजाब पुलिस ने निर्माता /प्रमोटर के.वी. सिंह ढिल्लों और अन्य के विरुद्ध हिंसा, घृणित जुर्मों, गैंगस्टरवाद, नशाखोरी, डराना-धमकाना और आपराधिक धमकियों को उत्साहित करने के लिए केस भी दर्ज किया था।

Related Articles

Back to top button