हसुवा सोसाइटी के कर्मचारी ने दी भूख हड़ताल की चेतावनी

0
49
Ads by Eonads

रेशम वर्मा की रिपोर्ट

कसडोल, हसुवा। प्राथमिक कृषि साख सहकारी हसुआ 1258 के कर्मचारियों को विगत 1 वर्षों से वेतन का मोहताज है, सहकारी समिति हंसुआ के कर्मचारियों ने 1 सप्ताह के भीतर भुगतान नहीं होने पर पूरे परिवार सहित समिति के सामने भूख हड़ताल पर बैठने की चेतावनी संचालक मंडल व शासन प्रशासन को दी है, प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति हसवा पंजीयन क्रमांक 1258 सरकार के महती योजना समर्थन मूल्य पर धान खरीदी व उपभोक्ता भंडार के माध्यम से चावल वितरण करती है समिति हंसुआ अमोदी वर्ष 18.19 मैं समर्थन मूल्य पर धान खरीदी सफलतापूर्वक कर मिलान कर लिया गया है परंतु मार्कफेड व उच्च अधिकारियों की लापरवाही से समिति को धान खरीदी पर मिलने वाली कमीशन 2.3वर्ष बीत जाने के बावजूद समिति को आज तक नहीं मिला है जिससे कर्मचारियों के परिवार की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है कोविड-19 जैसे प्रकोप के बीच में जान जोखिम में डालकर सेल्समैन के द्वारा लोगों को राशन वितरण किया गया बावजूद मार्कफेड व उच्च अधिकारी समिति के धान की कमीशन दिलाने में नाकाम रहे हैं इस संबंध में संचालक मंडल व कर्मचारी संघ की ओर से माननीय मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन सहकारिता मंत्री छत्तीसगढ़ शासन जिलाध्यक्ष बलौदा बाजार भाटापारा खाद्य अधिकारी बलोदा बाजार मार्कफेड बलोदा बाजार छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ रायपुर को 19.8. 2020 को मेल के माध्यम से गुहार लगाकर निवेदन किया गया परंतु आज तक उच्च अधिकारी वह सत्ता में बैठे मंत्रियों के द्वारा समिति का पत्र व मांग पर ध्यान नहीं दिया गया अगर समिति के कर्मचारियों भूख हड़ताल पर बैठते हैं तो पंजीयन का कार्य रुक जाएगा जिसके समस्त जिम्मेदारी मार्कफेड व शासन-प्रशासन की बनती है सहकारी समिति के अध्यक्ष ब्यासनारायण श्रीवास के कहना है की मैं इस संबंध में लगातार 8 महीने से विपणन संघ बलोदा बाजार जिलाधीश बलोदा बाजार पंजीयक बलोदा बाजार छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ रायपुर सरकारी दफ्तर का चक्कर लगा रहा हूं !परंतु अधिकारियों के दुवारा ध्यान नहीं दिया गया मैंने माननीय नगरी प्रशासन मंत्री डहरिया जी से निवेदन किया है मंत्री जी के द्वारा 16.7.2020 को नोटसीट खाद्य मंत्री व विपणन संघ रायपुर को जारी किया है इसके बावजूद छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ के द्वारा समिति को धान खरीदी पर कमीशन देने में तकलीफ हो रही है कर्मचारी के द्वारा पूर्व में भी कलम बंद हड़ताल किया गया था परंतु रजिस्टर बलौदा बाजार के द्वारा आश्वासन पर हड़ताल वापस लिया गया था पुनः भूख हड़ताल करते हैं तो समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासान व उच्च अधिकारी को होगी!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here