दोस्तों का हुनर

7
75
Ads by Eonads

दीप्ति सक्सेना

तिलमिला रहा था
मन का हर एक हिस्सा
छूते रहे कुछ अपने
कंडाली° की तरह से।
चुभन से छटपटाती
बेहाल जिंदगी में
तिकुनिया पत्ते जैसे
कुछ दोस्त मिल गए फिर।
लगा लिए जो मन पे
तो हर ली सारी पीड़ा
दवा दुआ बन गए
कुछ मुलाकातों में ही।
चमत्कार यूँ करते हैं वो
बाधा लगे ना व्याधि
करते हैं दिल को हल्का
बोझा बड़ा हटा कर ।
हर मर्ज का इलाज़
वैद्य हकीमों पर ही नहीं है
ये दोस्त भी रखते हैं हुनर
तबियत दुरुस्त करने का।

°कंडाली(बिच्छू घास)- कंटीली पहाड़ी घास

-दीप्ति सक्सेना, बदायूँ,उ0प्र0।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here